डोजर में दबा WCL कर्मी, वेकोलि भटाली खदान में घटा हादसा

दुर्गापुर. यहां से आठ किमी दूरी पर भटाली खुली खदान में डोजर को रिवर्स  लेते समय बलास्टिक हेल्पर तानाजी गोमासे (58) वाहन के चपेट में आकर बुरी तरह घायल हो गए। उनके दोनों पैर क्षतिग्रस्त हो गए बुरी तरह से घायल तानाजी गोमासे को चंद्रपुर के एक निजी अस्पताल में भरती किया गया। उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।

भटाली खदान के अंदर टॉवर लाईट लगाने के लिए डोजर आपरेटर रोड बनाने के काम में जुटा हुआ था। वह जब डोजर को रिवर्स ले रहा था उस समय पीछे खडे तानाजी गोमासे ने उसे जोर से आवाज लगाकर वाहन को पीछे लेने से मना किया क्योकि वहां ब्लास्टिंग के लिए गड्ढा बनाया गया था परंतु तानाजी गोमासे की आवाज डोजर आपरेटर तक नहीं पहुंच पायी और तानाजी संभल पाते वें डोजर के पहियों में आ गए और बुरी तरह से घायल हो गए।

बताया जाता है कि डोजर आपरेटर के काम करते समय किसी को आपरेटर को दिशा निर्देश देने के लिए नीचे खड़ा रहता है परंतु वहां कोई भी सहायक नहीं था।  खदान में कोयला उत्खनन के लिए बलास्टिंग की जाती है जिसके लिए गड्ढा (डाट)बनाया जाता है। उसके बाद उसमें उचित मात्रा में बारूद डाला जाता है। इतने संवेदनशील कार्य में डोजर चलाते समय अथवा पीछे लेते समय सुपरवायजर स्तर के अधिकारी का वहां होना जरूरी होता है परंतु प्रबंधन ने इस मामले में चूक की जिसका नतीजा वेकोलि कर्मी के घायल होने के रूप में सामने आया।