Prasiddha Krishna

    -विनय कुमार

    भारत और इंग्लैंड के बीच 3 मैचों की वनडे सीरीज के पहले मैच में टीम इंडिया ने गजब का खेल दिखाया। बल्लेबाज़ी ही नहीं बल्कि गेंदबाजी में भी भारतीय टीम ने पुणे के संग्राम में अपना परचम लहरा दिया और अपने शानदार प्रदर्शन की बदौलत सीरीज के पहले मैच में इंग्लैंड (England) को 66 रनों से हरा दिया और शानदार जीत हासिल की।

    भारत ने 3 मैचों की इस ताज़ा वनडे सीरीज (India vs England ODI Series 2021)  में 1-0 की बढ़त बना ली है। भारतीय टीम के दो नए खिलाड़ी, जिन्होंने आज ODI में डेब्यू किया, उन्होंने क्रिकेट में एक नया इतिहास रच दिया।  आज के मैच में क्रुणाल पांड्या (Krunal Pandya) और प्रसिद्ध कृष्णा (Prasiddha Krishna) ने अपने पहले मैच में शानदार खेल दिखाया।  

    क्रुणाल पांड्या (Krunal Pandya) ने अपने पहले मैच में इंग्लैंड के गेंदबाजों को अपने बल्ले की गरमी का अहसास करा दिया। विस्फोटक बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने 31 गेंदों में 58 रन बनाए और नॉट आउट रहे। इस आतिशी पारी में उनके बल्ले से 7 जानदार चौके और 2 शानदार छक्के निकले। भारतीय टीम का स्कोर 50 ओवर में 317 तक पहुंचा। 

    गेंदबाजी में भी भारत का जलवा जलजला बन गया। अपने डेब्यू मैच में प्रसिद्ध कृष्णा ने इंग्लैंड की टांगें उखाड़ दीं और इंग्लैंड चारों खाने चित्त हो गया।

    प्रसिद्ध कृष्णा ने रचा इतिहास

    ऑल राउंडर क्रुणाल पांड्या (Krunal Pandya) ने अपने डेब्यू मैच में 25 गेंदों में हाफ सेंचुरी बना ली और इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट में अपने डेब्यू मैच में सबसे तेज अर्धशतक ठोकने वाले खिलाड़ी बन गए।

    गेंदबाज प्रसिद्ध कृष्णा (Prasiddha Krishna) की उंगलियों का जादू भी चल गया।उनकी गेंदबाजी ने इंग्लैंड की टीम के 4 महत्वपूर्ण विकेट उखाड़ दिए और इंग्लैंड का तंबू गिराने में बड़ी भूमिका अदा की। अपने डेब्यू यानी अपने पहले अंतरराष्ट्रीय ODI मैच में 4 विकेट चटकाने वाले पहले भारतीय गेंदबाज बन गये हैं। इस खिलाड़ी ने क्रिकेट के इतिहास में  सबसे ज्यादा विकेट हासिल करने वाला भारतीय बनने का श्रेय लूट लिया।

    गेंदबाज कृष्णा ने 8.1 ओवर गेंदबाजी की और 54 रन देकर कुल 4 विकेट चटकाए। आज से पहले भारतीय टीम के किसी भी गेंदबाज ने अपने डेब्यू मैच में 3 से ज्यादा विकेट हासिल नहीं किए थे। कृष्णा की बेहतरीन गेंदबाजी के बाद वरुण एरॉन का रिकॉर्ड टूट गया है और उनका नाम अब पहले से दूसरे नंबर पर खिसक गया है। वरुण एरॉन (Varun Aaron) ने 2011 में 6.1 ओवर्स में 24 रन देकर 3 विकेट झटके थे।

    इन अहम खिलाड़ियों का किया शिकार

    इंंग्लैंड की टीम ने भारत को हराने जीत के लिए 318 रनों का पीछा करते हुए अच्छी शुरुआत की। भारतीय गेंदबाजों की बेहतरीन धुनाई करते हुए सिर्फ 14.2 ओवर में 135 रनों का स्कोर खड़ा कर लिया था। इंग्लैंड की तरफ से जेसन रॉय (Jason Roy) ने 46 और जोस बटलर (Josh Butler) ने शानदार और विस्फोटक पारी खेलते हुए 94 रन ठोके और पहले विकेट के लिए 135 रनों की बेहतरीन साझेदारी की। भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) को छोड़ इन्होंने सभी भारतीय गेंदबाजों की जमकर धुलाई की।

    पहला अंतरराष्ट्रीय ODI खेल रहे भारतीय गेंदबाज प्रसिद्ध कृष्णा (Prasiddha Krishna) ने जेसन रॉय (Jason Roy) का विकेट उड़ा दिया और इंग्लैंड की शानदार चल रही साझेदारी को तोड़ दिया। ये कृष्णा के करियर के पहले अंतरराष्ट्रीय ODI मैच का पहला विकेट चटका था। और ठीक एक ओवर बाद उन्होंने बेन स्टोक्स (Ben Stokes) का विकेट भी गिरा दिया और इंग्लैंड के बनते हुए महल के धराशाई होने का सिलसिला शुरू हो गया।

    इसके बाद जब इंग्लैंड (England) की तरफ से सैम बिलिंग्स (Sam Billings) और मोइन अली (Moeen Ali) की साझीदारी मजबूती ले रही थी कृष्णा का ‘सुदर्शन’ चल गया। उन्होंने सैम बिलिंग्स (Sam Billings) का विकेट भी ले लिया। ये उनके करियर की तीसरी सफलता थी। लेकिन उनकी गेंदबाजी का जलजला यहीं नहीं थमा। उनका अगला शिकार टॉम करन (Tom Curran) बन गए और इंग्लैंड का परदा गिर गया।

    भुवनेश्वर और शार्दुल ने भी किया कमाल

    प्रसिद्ध कृष्णा (Prasiddha Krishna) के अलावा इस मैच में भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) ने भी शानदार गेंदबाजी की। भुवनेश्वर 9 ओवर में 30 रन देकर 2 विकेट चटकाए और शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) ने 6 ओवर में 37 रन देकर 3 विकेट उड़ाए। अपना पहला मैच खेल रहे ऑल राउंडर क्रुणाल पांड्या (Krunal Pandya) ने भी 1 विकेट हासिल किया और अपनी टीम को जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। शार्दुल ठाकुर ने लगातार तीसरे अंतरराष्ट्रीय ODI मैच में 1 ओवर में 2 विकेट हासिल कर टीम को नेक टू नेक फाइट में इंग्लैंड को हराने में अहम भूमिका निभाई।