Bord exam
File Photo

    तिरुवनंतपुरम. कोविड-19 (COVID-19) के बढ़ते मामलों को लेकर चिंताओं के बावजूद केरल सरकार (Kerala Government) ने सोमवार को राज्य में जारी सेकेंडरी स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट (एसएसएलसी) (SSLC) और 12वीं की परीक्षाओं (Class 12 Exam) को सख्त स्वास्थ्य प्रोटोकॉल और गहन एहतियाती उपायों के पालन के साथ जारी रखने का फैसला किया। जिससे अब स्टूडेंट्स और परेंट्स कोरोना का डर सता रहा है। सामान्य शिक्षा विभाग ने यहां कहा कि परीक्षाएं मूल कार्यक्रम के अनुसार आयोजित की जाएंगी और छात्रों, शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त एहतियाती कदम उठाए गए हैं।

    डायरेक्टर ऑफ जनरल एजुकेशन (डीपीआई) ने यहां एक बयान में कहा कि परीक्षा देते समय छात्र एक-दूसरे से दूरी बनाये रखने के नियम का पालन करें, इसके लिये पहले ही कदम उठाए जा चुके हैं। उसने कहा कि शिक्षकों, शिक्षकेतर कर्मचारियों और छात्रों को तीन स्तर के मास्क का उपयोग करने की सलाह दी गई है। उसने कहा कि मुख्य परीक्षा अधीक्षकों को निर्देशित किया गया था कि वे शरीर के तापमान की जांच करने के बाद ही स्कूल परिसर में छात्रों का प्रवेश सुनिश्चित करें।

    बयान में कहा गया है कि कोविड-19 से संक्रमित, पृथक-वास के तहत रह रहे छात्रों और जिनके शरीर का तापमान अधिक है, वैसे छात्रों के परीक्षा में बैठने के लिये स्कूल स्तर पर ही व्यवस्था की गई है।

     

    बयान में कहा गया है कि छात्रों, शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों के लिए हैंडवाश और सैनिटाइज़र उपलब्ध कराए गए हैं। बयान में कहा गया है कि राज्य और राजस्व तथा शिक्षा जिला स्तरों पर गठित निगरानी दल परीक्षा के संचालन के संबंध में प्रत्येक स्कूल में लागू होने वाले कोविड प्रोटोकॉल की जांच कर रहे हैं और मुख्य परीक्षा अधीक्षकों को सुझाव दे रहे हैं।

    केरल में वार्षिक सेकेंडरी स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट (एसएसएलसी) और हायर सेकेंडरी सर्टिफिकेट (एचएससी) परीक्षाएं 8 अप्रैल से शुरू हुईं। एसएसएलसी परीक्षाएं 29 अप्रैल तक आयोजित होने वाली है जबकि 12वीं की परीक्षाएं 26 अप्रैल तक आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। राज्यभर के 4,951 से अधिक केंद्रों पर लगभग नौ लाख छात्र परीक्षा में बैठ रहे हैं।