भूमिगत गटर योजना के कार्यों की जांच करें

  • अध्यक्ष ब्राम्हणवाड़े ने विस अध्यक्ष को सौंपा ज्ञापन
  • कार्य से शहर के सभी सड़कों पर कीचड़ का आलम

गड़चिरोली. शहरों में शुरू होने वाले भूमिगत गटर योजना का कार्य धीमी रफ्तार से शुरू है. इस कार्य से शहर के सभी सड़कों पर कीचड़ का आलम है. इस कार्यों की जांच कर देयक रोकने की मांग युवक कांग्रेस के जिलाध्यक्ष महेंद्र ब्राम्हणवाड़े ने विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले की ओर ज्ञापन द्वारा किया है. 

मरम्मत कार्य की ओर हुई अनदेखी
गड़चिरोली शहर में 100 करोड़ रुपये खर्च कर भूमिगत गटर लाइन का कार्य शुरू किया गया है. उक्त कार्य दर्जायुक्त बने इसलिए वर्तमान पार्षद तथा नागरिकों ने नगर परिषद प्रशासन व जिला प्रशासन की ओर शिकायतें किया है. निर्माणकार्य को किसी तरह की क्यूरिंग नहीं की गई. इसके साथ ही जिस सड़क का खुदाईकार्य किया गया है, उस सड़क की मरम्मत करना आवश्यक था. ठेकेदार ने वैसा नहीं करते हुए शहर के करीब 40 किमी की सड़कें खोद कर पाइपलाइन डाली. किंतु सड़क मरम्मत के कार्य की ओर अनदेखी की. बरसात शुरू होते ही कई वार्डों में कीचड का आलम है. कौन से सड़क से घर तक पहुंचे, यह सवाल शहर के नागरिकों के समक्ष निर्माण हो रहा है. 

गिट्टी व मुरूम डालकर कर रहे लीपा-पोती
सड़क कार्य में बड़ी मात्रा में अनियमितता होने की संभावना व्यक्त की जा रही है. कार्यों से अधिक का देयक निकालने का प्रयास करने पर नप के कुछ सदस्यों ने जिलाधिकारी की ओर शिकायत दर्ज की थी. उस शिकायत के अनुसार जिलाधिकारी ने संबंधित ठेकेदार के देयक रोकने की सूचना सीधे बैंक को दिया है. कुछ वार्डों में सड़क की मरम्मत की जा रही है, नियमों के अनुसार मरम्मत नहीं होने का आरोप शहरवासियों द्वारा लगाया जा रहा है. खुदाई किए गए सड़कों में केवल गिट्टी व मुरूम डालकर लीपा-पोती की जा रही है. जिससे बरसात के दिनो में वाहन फिसलने की संभावना है. नागरिकों को व्यापक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. फलस्वरूप बड़ी दुर्घटना होने की संभावना से इ‍ंकार नहीं किया जा सकता है. उक्त कार्य की जांच शुरू कर इस कार्य के देयक रोकने की मांग युवक कांग्रेस के जिलाध्यक्ष महेंद्र ब्राम्हणवाड़े ने विस अध्यक्ष नाना पटोले से किया है.