कीटों के प्रादुर्भाव से किसानों में निराशा

  • धान फसल के साथ साथ तुअर फसलों पर भी कीटों का प्रादुर्भाव
  • बदलते वातावरण से तुअर फसल संकट में

गडचिरोली. जिले में धान फसलों के साथ रबी फसलों का बडे पैमाने में उत्पादन लिया जाता है. इस वर्ष का सीजन किसानों की परीक्षा लेनेवाला साबित होने का दिख रहा है. प्रथम धान फसलों के विभिन्न रोगों से धान उत्पादन में गिरावट आने से किसान चिंता में है. रबी फसलों की महत्वपूर्ण तूअर फसल भी संकट में दिख रहा है. कभी बेमौसम बारिश की रिमझिम व कभी बदरीले वातावरण से तुअर फसलों पर कीटों का प्रादुर्भाव बढ जाने से किसानों में निराशा छा गई है. 

जिले के अधिकांश किसान धान फसलों के साथ खरीप सीजन में खेतों में तुअर फसलों की बुआई करते है. तुअर फसलों को पोषक वातावरण मिलने से तूअर फसलों की वृद्धी अपेक्षा से अधिक हुई है. इस वर्ष धान फसल कीटों के प्रादुर्भाव से नष्ट हो चुके है. जिससे धान उत्पादन में भारी गिरावट हुई है. रबी फसलों की महत्वपूर्ण तूअर फसल की ओर किसानों को आंस थी. उक्त तुअर फसल गत सप्ताह के पूर्व रोगमुक्त था. किंतु वातावरण में बदलाव होने से तूअर फसलों पर ईल्लीओं का प्रादुर्भाव देखा जा रहा है. धान फसल तुडाई के बाद कीटों का प्रादुर्भाव नष्ट होगा, ऐसी आंस किसानों को थी. मात्र धान फसल तुडाई के बाद भी खेत से कीटों का प्रादुर्भाव नहीं गया. जिससे धान फसल के साथ साथ अब तुअर फसलों पर भी कीटों का प्रादुर्भाव होने से किसानों की चिंता बढी है

रबी फसल सबसे महत्वपूर्ण फसल होकर किसान तुअर फसलों की अधिक बुआई करते है. तथा आहार में तुअर दाल का महत्व ज्यादा है. जिससे किसान बडे उत्सुकता से तुअर फसल की बुआई कर उत्पादन लेते है. मात्र इस वर्ष कीटों ने किसानों का पीछा नही छोडा. जिससे तुअर फसलों के उत्पादन में गिरावट आने की संभावना है. फसलों पर आनेवाले कीटों की तीव्रता अधिक होने से छिडकाव कर भी  फसल रोग मुक्त नहीं हो रहा है. प्रकृति के चक्र में आनेवाले किसानों को आधार देनेवाली तकनिक अधिक सक्षम होने की आवश्यकता है. उसके लिए गाव गाव में किसान मार्गदर्शन शिविर आयोजित करे, ऐसी मांग हो रही है.

फसल रोगमुक्त करने के लिए किसानों की भागदौड

गत सप्ताहभर से वातावरण के बदलाव से इसका फटका तुअर फसलों को लगा है. तुअर फसल अच्छी होने पर फसलों पर विभिन्न कीटों का प्रादुर्भाव होने से किसान चिंता में आ चुका है.  धान फसलों पर कीटों ने किए हुए हमले से धान उत्पादन में गिरावट होने की संभावना है. अब धान के साथ तुअर फसल भी कीटों के प्रादुर्भाव में आने से किसान चिंता में होकर फसल रोगमुक्त करने के लिए फसलों पर छिडकाव करने की ओर किसानों की भागदौड शुरू है.