Market Committee to be the center of farmers' development - Legislative Jorgewar rendering

आरमोरी. खरीफ मौसम 2020-21 के सरकारी न्यूनतम समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र में धान बिक्री के लिए किसानों को प्रथम पंजीयन कर टोकन लेना आवश्यक है. इसके कारण गुरुवार को कृषि उपज बाजार समिति के परिसर में टोकन लेने के लिए किसानों की भीड़ उमड़ी थी. न्यूनतम समर्थन मूल्य खरीदी आरमोरी में सहकारी किसान खरीदी बिक्री संस्था के जरिए होगी. धान बिक्री के लिए पहले किसानों को पंजीयन करना आवश्यक है.

गुरुवार को इसकी शुरुआत की गई. पंजीयन करते समय किसानों को सातबारा, नमूना-8, आधार कार्ड, बैंक पासबुक की जेराक्स साथ में लाना आवश्यक है. पंजीयन के लिए गुरुवार की सुबह से ही कृउबास परिसर में किसानों की कतारे दिखने को मिली. किसानों की भीड़ ध्यान में लेकर संबंधित विभाग ने कृउबास परिसर में तगड़ा पुलिस बंदोबस्त लगाया था.

प्रति क्विंटल 700 रुपए बोनस

इस वर्ष केंद्र सरकार ने घोषित किए प्रति क्विंटल 1,868 रुपए के भाव से धान की खरीदी की जाएगी. इस बीच, राज्य सरकार ने धान को प्रति क्विंटल 700 रुपए बोनस देने की घोषणा की है. यही कारण है कि किसान धान खरीदी केंद्रों पर पंजीयन के लिए बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं.

सरकारी स्तर पर संबंधित विभाग केवल खरीफ मौसम में धान की फसल निकलते ही कुछ दिनों के लिए संस्था की ओर से धान खरीदी करते हैं. जिससे केवल टोकन लेने के लिए किसानों ने भीड़ की थी. किसानों के खरीफ, रबी मौसम के उत्पादित माल को समर्थन मूल्य मिलने के लिए 12 माह धान खरीदी केंद्र शुरू रखने की मांग किसानों ने की है.