तहसील क्रीडा संकुल की इमारत बनी शो-पीस, सुविधाओं का अभाव

  • समस्या हल करने की शहरवासीओं की मांग

आरमोरी. हर तहसील स्तर पर क्रीडा संकुल की निर्मिती की गई है. किंतु उनमें आवश्यक सुविधा उपलब्ध नहीं की गई. आरमोरी तहसीलस्तर पर तहसील क्रीडा संकुल की भी ऐसी ही अवस्था है. यहा अनेक समस्या खडी है. सुविधाओं के अभाव में खिलाडी, नागरिकों में निराशा हो रही होकर क्रीडा संकुल की इमारत केवल शो-पीस साबित हो रही है.

संबंधित विभाग द्वारा शहर समेत तहसील के क्रीडा खिलाडियों के लिए यहा के हितकारणी विद्यालय के भव्य परिसर में कुछ वर्ष पूर्व तहसील क्रीडा संकुल के इमारत का निर्माण किया गया. कई व्यायाम के सामग्री समेत उत्तम खिलाडी तैयार होने के हेतु से क्रीडा संकुल जनता की सेवा में खडे है. किंतु संकुल परिसर में कई समस्याए है. ऐसा होने के बावजदू भी समस्याओं की पूर्तता करने की ओर संबंधित विभाग की अनदेखी हो रही है. तहसील में गुणवंत खिलाडियों की कमी नहीं है.

मात्र क्रीडा संकुल की हालत खराब है. खिलाडियों के लिए गुणवत्ता व दर्जात्मक साधन उपलब्ध न होने से खिलाडियों का तथा यहा आनेवाले नागरिकों में निराशा हो रही है. क्रीडा संकुल परिसर विस्तीर्ण होने पर अनेक सुविधा कायम है. उक्त क्रीडा संकुल के इमारत में व्यायाम की सामग्री है. मात्र व्यायाम करने के सामग्रीओं की पूर्तता नहीं की गई. इमारत परिसर में सफाई, पीने का पानी, बिजली, आरामदायम खुर्चीया, बैठने की व्यवस्था, बगिचे की व्यवस्था नहीं की गई है.  इसके लिए सरकार स्तर पर किसी भी तरह की उपाययोजना न होने से क्रीडा प्रेमीओं में नाराजी व्यक्त हो रही है.

कर्मचारी बढाने की मांग

उक्त क्रीडा संकुल की सफाई, देखभाल व रात की निगरानी के लिए एक चौकीदार की अल्प मानधन पर नियुक्ती की है. एक ही चौकीदार पर सम्पूर्ण क्रीडा संकुल का बोझा होने से उस चौकीदार को सम्पूर्ण परिसर की सफाई करने में अडचण निर्माण हो रही है. जिससे उस जगह पर कर्मचारियों के पद बढाकर उन्हें सेवा में कायम करे, ऐसी मांग शहरवासीओं द्वारा हो रही है.

नप प्रशासन पहल करें

शहर में बगिचा न होने के कारण इस क्रीडा संकुल में खिलाडियों समेत शहर के ज्येष्ठ नागरिक तथा युवक, युवती हर रोज घुमने के लिए जाते है. जिससे स्थानिय नगर परिषद प्रशासन क्रीडा संकुल के खुले परिसर में बैठने की व्यवस्था, सफाई समेत पीने के पानी की व्यवस्था करे, तथा अन्य सुविधा उपलब्ध करने के लिए पहल करे, ऐसी मांग जोर पकड रही है.