6 fever clinic started, check on fever, cold: Modak

गडचिरोली. स्थानीय महिला व बाल अस्पताल अपने अनियमित कार्यों के चलते हमेशा से ही चर्चा में रहा है. जिससे अब मरीजों के साथ दुर्रव्यवहार करने का मामला सामने आया है. विभिन्न बीमारी से ग्रस्त महिला मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस दौरान सोमवार को सुबह 9 बजे के दौरान विशेष वार्ड तैयार करने के नाम पर उन मरीजों को अस्पताल के बरामदे में बिठाया गया.

स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही
गड़चिरोली में स्थित महिला व बाल अस्पताल शुरूआत से ही चर्चाओं में रहा है. माता व बाल मृत्यु व अनियमित सेवा आदि कारणों को लेकर अस्पताल प्रबंधन पर सवाल उठते रहे हैं. अस्पताल में विभीन्न बिमारियों से ग्रस्त महिलाएं अस्पताल में दाखिल हुई थी. उन्हे वार्ड क्र. 4 में रखा गया था. इस दौरान सोमवार को सुबह 9 बजे के दौरान विशेष वार्ड तैयार करने के नाम पर वार्ड में दाखिल करीब 20 से 22 मरीजों को वार्ड के बाहर निकाला गया. जिससे उक्त मरीज अस्पताल के बरामदे में जाकर बैठ गए.

दोपहर 2 से 3 बजे तक उन मरीजों को वहीं बिठाकर रखा गया. मरीज व उनके परिजनों द्वारा स्वास्थ्य कर्मियों से पूछने पर स्वास्थ्य कर्मी टालमटोल जवाब देते रहे, और मरीज दोपहर तक बरामदे में ही उपचार के बगैर समय बिताते रहे. मरीजों के प्रति स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही भरे कार्य से मरीज व मरीजों के परिजनों ने रोष व्यक्त किया है. स्वास्थ्य विभाग की लचर कार्यप्रणाली मरीजों के लिए जानलेवा साबित होने की बात कही जा रही है. इस ओर वरिष्ठ अधिकारी ध्यान दें.