Electricity

    देवरी. तहसील लोहारा, डवकी, बोरगांव, पुराडा, वडेगांव सहित शहर में, पिछले एक पखवाड़े से दिन में आठ से दस बार, रात में तीन से चार बार बिजली गुल समस्या शुरू है. इसमें दिन के समय विद्युत गई तो आधा घंटा व रात में गई तो उससे अधिक समय तक नहीं आती.  बरसात के दिनों में बिजली विभाग की लापरवाही का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है.

    फोन पर विभाग का नो रिस्पांस

    बिजली गुल होने पर बिजली कंपनी के अधिकारियों को फोन लगाकर नागरिक परेशान हो जाते हैं लेकिन कोई भी अधिकारी या कर्मचारी नागरिकों का फोन नहीं उठाते है. वहीं दूसरी ओर बिजली बिलों के लिए तंग कर कुछ विलंब होने पर आपूर्ति खंडित कर दी जाती है. इस प्रकार की कार्यप्रणाली से नागरिकों में विभाग के प्रति तीव्र रोष व्याप्त है. इस ओर  वरिष्ठ अधिकारियों से ध्यान देने की मांग की जा रही है.  ग्रामीण क्षेत्रों में अघोषित लोडशेडिंग चल रही है.

    निरंतर बिजली की आंखमिचौली बड़े पैमाने पर शुरू है. दिन तो गुजर जाता है लेकिन रात में अधिक परेशानी होती है. रात में लाइन बंद होने से मच्छरों के प्रकोप से नागरिक तंग आ गए हैं, जिससे नींद हराम हो गई है. नागरिक जब इस बारे में अधिकारियों को फोन करते हैं तो कोई अधिकारी फोन नहीं उठाता है.

    ग्रामीण क्षेत्र के लोहारा, वडेगांव, पुराडा, बोरगांव, चिचगड व शहर में विद्युत विभाग की मनमानी शुरू है. जिससे लोग काफी परेशान रहते हैं. इसका जवाब  देना चाहिए और इस अघोषित लोडशेडिंग को समय रहते रोका जाना चाहिए. अन्यथा इसके खिलाफ नागरिकों का असंतोष कभी भी भड़क सकता है. 

    कई गांवों में अघोषित लोडशेडिंग

    ग्राम लोहारा निवासी राहुल कांबले के अनुसार लोहारा गांव देवरी शहर से 10  किमी. की दूरी पर है. विभाग द्वारा संपूर्ण गांव की स्ट्रीट लाइन के कनेक्शन काट लिए हैं जिससे तहसील के अनेक ग्रामों में रात के समय अंधेरा छाया रहता हैं. गत एक सप्ताह भर से बिजली विभाग की लापरवाही के चलते अघोषित लोडशेडिंग शुरू है. किसान खेतों में काम कर थका हारा जब लौटता है और आराम करना चाहता है लेकिन विभाग के नियोजन के अभाव में उसे परेशानी उठानी पड़ रही है. 

    मच्छरों के पीछे रात भर जागरण

    ग्राम बोरगांव निवासी अबजल पठान के अनुसार पिछले एक सप्ताह से बिजली गुल हो रही है, इसमें  पिछले दो दिनों से अधिक परेशानी हो रही है. बीती रात (10 जुलाई) को बिजली गुल होने के कारण रात भर जागकर मच्छरों को मारना पड़ा और सुबह हो गई लेकिन बिजली का अतापता नहीं था. 

    ग्राम वडेगांव निवासी विलास चाकाटे का भी  कुछ ऐसा ही कहना है  लगातार बिजली गुल होने से पूरे गांव में अफरातफरी का माहौल है, कभी-कभी तो रात भर जागना पड़ता है. संबंधित विभाग के अधिकारी को इसकी सूचना देने का प्रयास किया गया लेकिन वह फोन नहीं उठाते.  कार्यालय में शिकायत करने पर टालमटौल जवाब दिया जाता है. बिजली विभाग को जल्द ही कोई समाधान निकालना चाहिए, अन्यथा बिजली विभाग को ग्रामीणों के रोष का सामना करना पड़ेगा. 

    जनप्रतिनिधियों का ध्यान नहीं 

    ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को विद्युत विभाग की बदहाली का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है.  स्थानीय जनप्रतिनिधि इस स्थिति से पूरी तरह वाकिफ हैं. अनेक  शिकायतें करने के बाद भी कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. शिकायतों के बाद भी किसी जनप्रतिनिधि ने लोगों के साथ सहयोग नहीं किया है, जिससे  ग्रामीण क्षेत्रों में जनप्रतिनिधियों के खिलाफ भी रोष दिखाई दे रहा है.