राहजनी करने वाली टोली सक्रिय, क्षेत्र के लोगों में दहशत

गोंदिया. ग्रामीण क्षेत्र में आपस में जुड़े मार्गों पर पिछले 2 महीने से राहजनी की घटनाओं को अंजाम देने वाली टोली सक्रिय है. मार्गों पर दुपहिया व साइकिल से जाने वालों को बीच में रोक कर मारपीट कर उनके पास से मोबाइल व नकद रकम छीन लेने की घटनाएं हो रही हैं. इस संदर्भ में गोंदिया ग्रामीण, रामनगर व रावणवाड़ी थानों में शिकायतें की गई हैं. बावजूद अब तक इस टोली का पर्दाफाश नहीं हो सका.

राहजनी की घटनाओं को अंजाम देने वालों के हौसले बुलंद होते गए. जिले का केंद्र गोंदिया शहर है. जिससे गोंदिया तहसील के ग्रामीण क्षेत्र से लगभग 5 हजार से अधिक मजदूर आना जाना करते है. इसका लाभ उठाकर गोंदिया तहसील में राहजनी करने वाली टोली सक्रिय हो गई है. फुलचूर-कवलेवाड़ा, फुलचूर-तुमखेड़ा, फुलचूर-खमारी, खमारी-अदासी, तेढवा-डांगोरली, गोंदिया–गंगाझरी, गोंदिया, पिंडकेपार, गोंदिया-चुलोद, टेमनी-गोंदिया, रावणवाड़ी-कामठा व कुड़वा-पांढराबोडी इन मार्गों पर बड़ी संख्या में मजदूर आते-जाते हैं.

फुलचुर-कवलेवाड़ा मार्ग पर से गुजरना मुश्किल

सप्ताह भर पूर्व फुलचूर से कवलेवाड़ा इस मार्ग पर हर दिन मोटरसाइकिल पर जाने वालों को रोक कर उनके साथ मारपीट की गई. इस घटना की शिकायत की गई, किंतु पुलिस इसे गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है. इसी तरह रावणवाड़ी थाने के तहत राहजनी की 3 घटनाएं दर्ज की गई. गोंदिया तहसील में अचानक राहजनी की घटनाएं बढ़ने से भय का वातावरण निर्मित हो गया.

इस तरह की घटनाएं होते देख पर्याय के रूप में अब मजदूर समूह में गांव लौटने लगे हैं. इन गंभीर घटनाओं को लेकर पुलिस आखिर कब चुस्त दुरुस्त होगी, ऐसा सवाल किया जा रहा हैं. ग्रामीण थाने के अंतर्गत फुलचुर से कवलेवाडा मार्ग पर गत सप्ताह राहजनी की दो घटनाएं हुई, इस संबंध में ग्रामीण थाने में शिकायत की गई, इस पर एक व्यापारी ने ग्रामीण पुलिस से संपर्क कर पूछताछ की. इस पर पुलिस का कहना था कि आरोपी पकड़ लिए गए थे लेकिन जमानत पर छूट गए.