Milk rich in fiber and protein helps in reducing obesity

-सीमा कुमारी 

किसी ज़माने में बाजरा की रोटी खाना मतलब आप गरीबी रेखा से नीचे की जिंदगी गुजर बसर कर रहे हैं. हमारे बुजुर्गो के मुताबिक माने तो काफी सारे जगहों पर बाजरा, नरकटिया, गंगय, मरुआ, चीना कोणी,  ये सब गरीबी रेखा से नीचे वाले लोग खाते थे. लेकिन आज हम इनसे बनी सामग्री खाने को बेताब रहते है. इनसे बनी हुए सामग्री 5 स्टार होटल में भी देखी होंगी. 

बाजरे का रोटी:

खाना शरीर के लिए लाभदायक होता है. बाजरा की रोटी में काफी गर्माहट होती है. जिससे आपके शरीर में गर्माहट बनी रहती है. गांव में जाड़े (ठण्ड) के दिनों में आज भी महीने में दो से तीन बार बाजरा की रोटी या बाजरा की खिचड़ी अवश्य खाई जाती है. गेहूं के आटे के अलावा जिन अनाजों का इस्तेमाल सबसे अधिक होता है उनमें से बाजरा भी एक प्रमुख अनाज है. यह हर राज्य में बाजरा को अलग – अलग प्रकार से ग्रहण करते है.

 बाजरा से मिलने वाले फायदे:

  • ऐसे तो बाजरा में कई प्रोटीन पाए जाते है. पर बाजरा ग्लूटेन फ्री होता है, जो शरीर के लिए फायदेमंद है. कई बार ऐसा देखा गया है कि ग्लूटेन युक्त भोजन खाने से पाचन में दिक्कत होती है, इसलिए कई लोग उसकी जगह ग्लूटेन फ्री आहार को लेना पसंद करते हैं. इसके लिए बाजरा एक बेहद ही हेल्दी खाद पदार्थ साबित हो सकता है.
  • बाजरा की रोटी में फाइबर भरपूर होने की वजह से पाचन क्रिया को सही रखता है. बाजरा खाने से कब्ज़ की समस्या से छुटकारा मिल सकता है और बार-बार पेट से संबंधित रोगो से मुक्ति मिलती है.
  • अगर आप किसी भी प्रकार से बाजरा को खाने में इस्तेमाल करते है तो डायबिटीज की समस्या से  आपको लाभ मिलेगा. जो लोग बढ़ते वजन से परेशान हैं और अपना वजन कम करना चाहते हैं, उन्हें भी अपने खाने में बाजरे की रोटी को शामिल करना चाहिए. फाइबर की उच्च मात्रा होने की वजह से यह आपको जल्दी भूख नहीं लगने देती.
  • बाजरा आपके पाचन तंत्र को ठीक रखता है. इसके लिए आप बाजरा से बनी रोटी या बाजरा की दलिया खा सकते है. बाजरा का सेवन आप किसी भी प्रकार से करें ये आपके पाचन के लिए लाभदायक है.