अंकुरित मेथी, डायबिटीज़, थायराइड, ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए है रामबाण

-सीमा कुमारी

भारतीय रसोई में मेथी के दानों का प्रयोग कई प्रकार के व्यंजनों को बनाने के लिए किया जाता है| यह खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ सेहत को भी हेल्थी रखती है| सर्दियों में लोग मेथी का साग खाना ज्यादा पसंद करते हैं| मेथी का प्रयोग चाहे दाने के रूप या साग के रूप करें ये दोनों रूप में हेल्थी है|

मेथी को अंकुरित रूप में खाने से इसके गुण काफी ज्यादा बढ़ जाता है। अंकुरित मेथी में फाइबर, विटामिन ए और कैल्शियम बहुत होता है| जो शरीर के लिए फायदेमंद है। इतना ही नहीं अंकुरित मेथी में फोटोकेमिकल्स नामक तत्व बढ़ जाता है, जो पोषक तत्वों के गुणों को हाई करने में आपकी मदद करता है। अंकुरित मेथी का सेवन करना ज्यादा गुणकारी है। मेथी के दानों में कई लाभकारी गुण छिपे होते हैं। जैसे झड़ते बालों से लेकर पेट की चर्बी को कम करने में मेथी बहुत ही लाभकारी होती है। यह हर एक रूप में गुणकारी है। अंकुरित मेथी का उपयोग खासतौर पर डायबिटीज़, मोटापा, दिल से संबंधित बीमारी, थायराइड, ब्लड प्रेशर इत्यादि बीमारी को कंट्रोल करने के काम आता है। चलिए जानते है मेथी से होने वाले फायदे के बारे में –

  • मेथी और अंकुरित मैथी के दाने में सैपोनिन नामक तत्व होता है, जो आंत और पेट के लिए सुरक्षा कवच की तरह कार्य करता है। यह पेट को हानिकारण बैक्टीरिया से बचाव करता है।
  • इसके सेवन से महिलाओं की ब्रेस्ट मिल्क का उत्पादन अधिक होता है। मेथी में डायोजेनिन नामक पदार्थ होता है, जो एस्ट्रोजन की तरह व्‍यवहार करता है। इससे सेवन से चक्कर, तनाव, मानसिक समस्याओं के लक्षण को कम किया जा सकता है। ब्रेस्ट को टाइट करने के लिए भी यह काफी उपयोगी है।
  • अंकुरित मेथी के दाने में आयरन की मात्रा काफी ज्यादा बढ़ जाती है। ऐसे में अगर आप अंकुरित मेथी के दानों का सेवन करते हैं |, तो शरीर में आयरन की कमी दूर होगी। ऐसे में आप नियमित रूप से अंकुरित मेथी के दानों का सेवन सलाद के रूप में करें।
  • सर्दियों में हेयर फॉल और डैंड्रफ की समस्या काफी ज्यादा बढ़ जाती है। ऐसे में अंकुरित मेथी के सेवन से डैंड्रफ की परेशानी को दूर होती है|
  • अंकुरित मेथी के सेवन से कैंसर के खतरे से बच सकते हैं। इसलिए मेथी का सेवन जरूर करना चाहिए  >इसका सेवन से वायरल बुखार और बैक्टीरियल समस्या दूर होती है|
  • इसके  सेवन से पीरियड्स के दौरान होने वाली ऐंठन, पेट में दर्द,और मानसिर परेशानियां दूर रहती हैं। इसके सेवन से पीएमएस और रजोनिवृत्ति के लक्षण कम होते हैं।