Congress rejects internal rivalry claim due to attack on their MLA's residence

बेंगलुरु. कर्नाटक (Karnataka) में कांग्रेस (Congress) ने बृहस्पतिवार को पुलिस के उस दावे को खारिज कर दिया कि अगस्त में शहर में हुई हिंसा के दौरान पार्टी के विधायक आर अखंड श्रीनिवास मूर्ति (MLA R Akhand Srinivas Murthy) के आवास पर हुए हमले की वजह पार्टी की अंदरूनी प्रतिद्वंद्विता थी। कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति (Karnataka Pradesh Congress Committee) प्रमुख डी. के. शिवकुमार ( D.K. Shivkumar) ने इस घटना के लिये सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि ये आरोप उनकी पार्टी के खिलाफ साजिश का हिस्सा हैं। उन्होंने पुलिस पर सत्तारूढ़ भाजपा के एजेंट के रूप में काम करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कांग्रेस विधायक मूर्ति (Congress MLA Murthy) (जिनके आवास पर तोड़फोड़ की घटना हुई थी) की यह मांग भी खारिज कर दी कि आरोपपत्र में नामजद नेताओं को पार्टी से निलंबित कर दिया जाए। साथ ही, शिवकुमार ने इसे ‘उनका राजनीतिक एजेंडा’ करार दिया। प्रदेश कांग्रेस प्रमुख ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘मैं आपसे कह रहा हूं कि जहां तक डी जे हल्ली घटना की बात है, कांग्रेस का इससे कोई लेना-देना नहीं है, हमारी पार्टी की छवि धूमिल करने के लिये अनावश्यक रूप से हमारे नेताओं का इसमें नाम शामिल किया जा रहा है। ”

उन्होंने यहां संवाददाताओं से बात करते हुए आरोप लगाया कि ‘‘पुलिस कठपुतली की तरह काम कर रही है” और कांग्रेस (Congress) मामले को राजनीतिक तरीके से लेगी। शिवकुमार ने जोर देते हुए कहा कि किसी भी साजिश में कांग्रेस (Congress) का कोई नेता संलिप्त नहीं था। उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा नेता (BJP leaders) और अधिकारी ऐसा कांग्रेस पार्टी (Congress Party) को दागदार करने के लिये कर रहे हैं, हम इससे राजनीतिक तरीके से और कानूनी तरीके से, दोनों तरह से अलग-अलग लड़ेंगे। ”

हिंसा के दौरान मूर्ति के आवास पर हुए हमले की जांच कर रही केंद्रीय अपराध शाखा (Central Crime Branch) पुलिस ने पूर्व मेयर संपत राज और पुलकेशीनगर के पूर्व वार्ड पार्षद अब्दुल रकीब जाकिर को आरोपित किया है तथा उन पर राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता को लेकर हमले की साजिश रचने का आरोप लगाया गया है। सीसीबी ने अंतरिम आरोपपत्र दाखिल कर संपत राज, जाकिर सहित 60 आरोपियों को नामजद किया है। यह पूछे जाने पर कि क्या पार्टी संपत राज के साथ खड़ी होगी, शिवकुमार ने कहा, ‘‘मैं कांग्रेस के सभी लोगों के साथ खड़ा रहूंगा, वे सभी बेकसूर हैं। ” अखंड श्रीनिवास मूर्ति (जिनके आवास पर हमला हुआ था) द्वारा संपत को पार्टी से निलंबित किये जाने की मांग के बारे में पूछे जाने पर शिवकुमार ने कहा, ‘‘यह उनका राजनीतिक एजेंडा हो सकता है, हम किसी को भी निलंबित नहीं करने जा रहे हैं। ”

शिवकुमार ने कहा कि पार्टी ने एक आंतरिक जांच कराई है और इसकी रिपोर्ट सौंप दी गई है। यह पूछे जाने पर कि क्या वह अपनी ही पार्टी के विधायक (मूर्ति) पर राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं, शिवकुमार ने कहा, ‘‘मैं ज्यादा टिप्पणी करना नहीं चाहता…हम आंतरिक रूप से यह विचार करेंगे कि क्या कुछ कार्रवाई किये जाने की जरूरत है।”

गौरतलब है कि विधायक के आवास पर और डी जे हल्ली में एक पुलिस थाने को तथा कई पुलिस वाहनों एवं निजी वाहनों को हिंसक भीड़ ने आग के हवाले कर दिया था। उन्होंने विधायक और उनकी बहन के आवास पर लूटपाट भी की थी। हिंसा की घटना से जुड़े मामले की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (National Investigation Agency) ने कांग्रेस के दो विधायकों–बी जेड जमीर अहमद खान और रिजवान अरशद– से इस बारे में पूछताछ की है कि किस वजह से यह घटना हुई थी।(एजेंसी)