Congress Crises : All is not well in Congress, after Punjab, now reports of stir in Rajasthan

    नयी दिल्ली. कांग्रेस (Congress) देश में पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel Price) के दाम और अन्य जरूरी वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ आगामी सात से 17 जुलाई के बीच राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन करेगी तथा पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें कम करने की मांग करते हुए पेट्रोल पंपों पर हस्ताक्षर अभियान भी चलाएगी। पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी बयान के मुताबिक, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में हुई पार्टी महासचिवों एवं प्रदेश प्रभारियों की बैठक में यह फैसला भी किया गया कि 30 दिनों में तीन करोड़ परिवारों से संपर्क साधने का अभियान भी चलाया जाएगा।

    उन्होंने बताया, “सोनिया गांधी की अगुवाई में हुई बैठक में इस बात पर जोर दिया दिया गया कि संपर्क कार्यक्रम को समयबद्ध तरीके से लागू किया जाए। इसका मकसद 30 दिनों में तीन करोड़ परिवारों से संपर्क साधने का है। इसका मतलब यह है कि 12 करोड़ लोगों से संपर्क किया जाएगा।”

    वेणुगोपाल ने कहा कि बैठक में महंगाई, अनाज और खाद्य तेल की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोतरी और पेट्रोल-डीजल के दाम में वृद्धि पर भी चर्चा की गई। कांग्रेस महासचिव ने दावा किया कि मोदी सरकार ने दो मई, 2021 के बाद 29 मौकों पर ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी की है और अब 150 से अधिक शहरों में पेट्रोल के दाम 100 रुपये प्रति लीटर से ऊपर चले गए हैं।

    उनके अनुसार, कांग्रेस ने फैसला किया गया है कि ब्लॉक, जिला और राज्य स्तर पर प्रदर्शन किया जाएगा। ये कार्यक्रम सात से 17 जुलाई के बीच होंगे। इन विरोध प्रदर्शनों में कांग्रेस के नेता, पार्टी के सभी संगठनों के नेता एवं कार्यकर्ता शामिल होंगे।

    उन्होंने बताया कि पार्टी के राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन में महिला कांग्रेस, युवा कांग्रेस और दूसरे अग्रिम संगठनों के लोग शामिल होंगे और ये ब्लॉक स्तर पर महंगाई के मुद्दे पर सरकार का विरोध करेंगे।

    वेणुगोपाल ने कहा, ‘‘कांग्रेस जिला स्तर पर साइकिल यात्रा निकालेगी जिसमें पार्टी के नेता और कार्यकर्ता शामिल होंगे। पार्टी के नेता और कार्यकर्ता महंगाई के मुद्दे पर राज्य स्तर पर मार्च एचं जुलूस निकालेंगे। पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम करने की मांग करते हुए पार्टी देश भर के पेट्रोल पंपों पर हस्ताक्षर अभियान चलाएगी।” (एजेंसी)