IPS अंकिता शर्मा ड्यूटी के बाद गरीब बच्चों को देती हैं शिक्षा, खुद छोटे गांव से निकलकर बनीं मिसाल

आईपीएस अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) उन गरीब बच्चों की मदद कर रही हैं जिनमें कुछ कर गुजरने की ललक है। अंकिता पूरे सप्ताह ड्यूटी में व्यस्त रहती हैं और रविवार के दिन अपने ऑफिस में करीब 20-25 गरीब बच्चों को पढ़ाती हैं, जो लोक सेवा आयोग (UPSC) की परीक्षा की तैयारी में जुटे हुए हैं। इसमें ऐसे गरीब युवा शामिल हैं जो कोचिंग की भारी भरकम फीस नहीं दें सकते। बता दें कि अंकिता ने अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए कई कठिनायों और चुनौती का सामना किया है। वे जानती हैं कि ऐसे वक्त में की गई मदद सारी उम्र याद रहती है, उनकी राह आसान नहीं होती।

आईपीएस अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के आजाद चौक इलाके में नगर पुलिस अधीक्षक (सीएसपी) पद पर तैनात है। अंकिता रायपुर में बढ़ रहे अपराधिक मामलों को नियंत्रित करने के लिए भी मशहूर हैं। छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के एक छोटे से गांव से हैं और उन्होंने अपने शुरुआती पढ़ाई सरकारी स्कूल से की है। अंकिता को सिविल सर्विसेस की तैयारी करते समय कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा था, क्योंकि मार्गदर्शन करने के लिए उनके पास कोई नहीं था। परंतु अंकिता ने कभी हार नहीं मानी और तैयारी जारी रखी। आख़िरकार अंकिता को साल 2018 में तीसरे प्रयास में सफलता मिली और उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में 203वीं रैंक हासिल की। इसके बाद अंकिता होम कैडर पाने वाली छत्तीसगढ़ की पहली महिला आईपीएस बनी हैं।

अंकिता ने इंस्टाग्राम पर पेज बनाया है। जिससे ऐसे बच्चे उनसे संपर्क करते हैं जो मार्गदर्शन और महंगी फीस के कारण आगे नहीं बढ़ पाए। कई स्टूडेंट इस पेज के जरिये अंकिता से जुड़ पाए हैं और उनकी पढ़ाई जारी है। अंकिता शर्मा ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट में एक पोस्ट में लिखा था कि जो युवा यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं अगर उन्हें किसी सहायता की जरूरत पड़े तो वे रविवार सुबह 11 से दोपहर 1 के बीच आजाद चौक थाना में मिल सकते हैं। सोशल मीडिया पर उनके इस प्रयास की जमकर तारीफ की जा रही है।