BreakingNews: कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दिया

भोपाल, मध्यप्रदेश का सियासी तुफान आज 17 दिन बाद थम गया जब आज होने वाले फ्लोर टेस्ट से पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा देने का फैसला कर लिया। अपने आज हुई प्रेस वार्ता में उन्होंने उक्त इस्तीफे की

भोपाल, मध्यप्रदेश का सियासी तुफान आज 17 दिन बाद थम गया जब आज होने वाले फ्लोर टेस्ट से पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा देने का फैसला कर लिया। अपने आज हुई प्रेस वार्ता में उन्होंने उक्त इस्तीफे की बात कही साथ ही यह आरोप भी लगाया कि बीजेपी ने उनकी सरकार को अस्थिर की है। उन्होंने यह हिदायत भी बीजेपी को दी है कि वे याद रखे की कल और परसों का भी दिन आएगा जब लोगो के सामने सच्चाई आएगी। 

अपनी प्रेस वार्ता में कमलनाथ ने कहा कि पुरे देश को मालूम है कि कैसे बीजेपी ने करोड़ों रुपये खर्च कर यह स्वांग रचा है। उन्होंने यह भी कहा कि आज पुरे देश ने देखा कि कैसे बीजेपी ने हमारे 22 विधायकों को बंधक बनाया और एक महाराज और उनके 22 सिपाहियों के साथ इस पुरे नाटक को अंजाम दिया है। लेकिन जल्द ही इसकी पीछे की सच्चाई देशवासियों को पता चलेगी। 

मुख्यमंत्री ने यह भी स्पष्ट किया कि उन्होंने तीन बार विधानसभा में अपना बहुमत स्पष्ट किया है लेकिन बीजेपी द्वारा लोगों को फिर भी छला जा रहा है और लोकतांत्रिक मूल्यों का हनन किया जा रहा है। कमलनाथ ने अपने निवास पर संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह राज्यपाल लालजी टंडन को अपना त्यागपत्र देने जा रहे हैं। उन्होंने कहा ‘‘मैंने हमेशा सिद्धांतों व मूल्यों का पालन किया है… इसलिए मैंने निर्णय लिया है कि मैं राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दूंगा।” 

इसके साथ ही उन्होंने अपने सरकार की उपलब्धियों को गिनवाया और कहा की उन्होंने केवल आम लोगों के भले के लिए कार्य किया लेकिन बीजेपी हो रास नहीं आया। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया के वे किसानों के लिए भी कार्य कर रहे थे लेकिन बीजेपी को यह भी रास न आया। विदित हो की आज च्चतम न्यायालय के निर्देश पर मध्यप्रदेश विधानसभा में शुक्रवार दोपहर दो बजे होने वाले शक्ति परीक्षण से पहले ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपना त्यागपत्र देने की घोषणा कर दी है।