Lockdown
Representational Pic

    नई दिल्ली: भारत में कोरोना का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है। देश के कुछ राज्यों में कोविड-19 के मामले बड़ी तेज़ी से बढ़ रहे हैं। महाराष्ट्र सहित कुछ राज्यों में कोरोना महामारी ने फिर कहर बरपाना शुरू कर दिया है। लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों के चलते केंद्र सहित राज्य सरकारों की चिंता भी बढ़ गई है। यही कारण है की महाराष्ट्र ने एहतियातन कुछ जिलों में लॉकडाउन लगा दिया है। महाराष्ट्र की उद्धव सरकार अलर्ट मोड़ पर है। जबकि पंजाब में भी कोरोना के मामलों में भी इजाफा जारी है।

    बता दें कि कोरोना के बढ़ते प्रकोप को ध्यान में रखकर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने नागपुर के बाद अकोला में भी लॉकडाउन लगा दिया है। प्रशासन ने अकोला में आज शाम 8 बजे से सोमवार सुबह 8 बजे तक लॉकडाउन लगाया हुआ है। जबकि पुणे में नाइट कर्फ्यू का फैसला किया गया है। जो रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक जारी रहेगा। पुणे में 31 मार्च था सभी स्कूलों और कॉलेजों को बंद करने का फैसला किया गया है। साथ ही बार को रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक बंद रखने का नियम भी लागू रहेगा।

    वहीं पंजाब की बात करें तो यहां सात जिलों में आज नाइट कर्फ्यू का फैसला किया गया है। जिसमें लुधियाना, पटियाला, होशियारपुर, कपूरथला, मोहाली, जालंधर और नवाशहर का समावेश है। जबकि अन्य राज्यों में भी कोविड-19 के मामले बढ़े हैं। जिसमें गुजरात कर्नाटक, तमिलनाडु, मध्‍य प्रदेश, दिल्‍ली शामिल हैं।

    दिल्ली में कोरोना के प्रकोप पर स्वास्थ मंत्री सत्येंद्र जैन का तर्क है कि महाराष्ट्र, केरल और राजधानी में आ रहे मामलें विपरीत हैं। महाराष्ट्र में पॉजिटिव रेट 10 फीसदी के करीब है जबकि दिल्ली में सिर्फ 0.5 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि हम इसे लेकर अलर्ट हैं। केरल में कोरोना के मामले सबसे कम हैं।