सीरम में लगी आग से पांच लोगों की मौत, 25 लाख रुपए मुआवज़े का ऐलान

पुणे: दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) की पुणे (Pune) स्थित कार्यालय में गुरुवार को आग लग गई। जिसके वजह से अभी तक पांच लोगों की मौत (Fire People Death) हो गई है। इस भीषण आग से मरने वाले लोगों को 25 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान कंपनी के प्रमुख सायरस पूनावाला (Cyrus Poonawalla) ने किया है। वहीं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मामले की जांच का आदेश दे दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार, आज सुबह पुणे के मंजरी स्थित बन रहे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के नए प्लांट की बिल्डिंग के सबसे ऊपर वाले हिस्से में आग लग गई। आग लगने की वजह अभी सामने नहीं आई है, लेकिन कहा जारहा है की जिस समय आग लगी उस समय वहां वेल्डिंग का काम शुरू था। मौके पर 8 दमकल की गाड़ियां पहुंच गई है और आग बुझाने का काम अभी भी जारी है। 

प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने जताया शोक 

सीरम में आग लगने के वजह से हुई मौत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने शोक जताया है। राष्ट्रपति ने ट्वीट करते हुए कहा, “पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में एक आग दुर्घटना में हुई मौत से विक्षुब्ध हूँ। मेरे विचार और प्रार्थनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। मैं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट में लिखा, “सीरम में लगी आग से लोगों की मौत से दुखी हूँ। इस दुख की घड़ी में, मेरे विचार उन लोगों के परिवारों के साथ हैं जिन्होंने अपनी जान गंवाई। मैं प्रार्थना करता हूं कि वे घायल जल्द से जल्द ठीक हो जाएं।

आज का दिन बेहद दुखद 

सायरस पूनावाला ने कहा, “आज एसआईआई में हम सभी के लिए एक अत्यंत दुखद दिन है। हमें गहरा दुख हुआ है और दिवंगत परिवारों के प्रति हमारी संवेदना है। हम मानदंडों के अनुसार अनिवार्य राशि के अलावा, प्रत्येक परिवार को 25 लाख रुपये का मुआवजा देंगे।”

फायर ऑडिट करने का दिया निर्देश

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री और पुणे के पालकमंत्री अजित पवार ने हादसे को लेकर कहा, “ठेकेदार के लोग उस मंजिल पर काम कर रहे थे (जहां आग लगी थी) और जब दमकल विभाग के अधिकारी वहां गए, तो उन्हें पांच पूरी तरह से जले हुए शव मिले। इनमें से 2 यूपी के, 2 पुणे के और 1 बिहार के हैं।” उन्होंने कहा, “हमारी सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाई जाए। एनर्जी ऑडिट टीमों को फायर ऑडिट करने का निर्देश दिया गया है, वे इसे कल करेंगे।”

उपमुख्यमंत्री ने आगे कहा, “फायर ब्रिगेड ने अच्छा काम किया है। मेरी जानकारी के अनुसार, सीएम कल भी साइट का दौरा करेंगे। जिस स्थान पर COVID वैक्सीन निर्मित है, वह प्रभावित नहीं थी। मुझे सूचित किया गया था कि रोटावायरस वैक्सीन बनाने के लिए इस इमारत (अग्नि स्थल) पर तैयारी चल रही थी।”