COVID was the third leading cause of medically proven death in the country in 2020: Report
PTI Photo (File Pic)

    नयी दिल्ली: देश में वर्ष 2020 में चिकित्सकों द्वारा प्रमाणित की गईं, 18,11,688 लोगों की मौत में से 1,60,618 लोगों की जान जाने की वजह कोविड-19 महामारी थी। चिकित्सकों द्वारा प्रमाणित मौतों की श्रेणी में कोविड-19 को मृत्यु के तीसरे सबसे बड़े कारण के रूप में दर्ज किया गया। 

    भारत के महापंजीयक कार्यालय से बुधवार को जारी मृत्यु के कारणों की चिकित्सकीय प्रमाणीकरण रिपोर्ट-2020 में यह भी कहा गया है कि चिकित्सकों द्वारा प्रमाणित मौत के मामलों में 42 प्रतिशत का कारण हृदय रोग सहित परिसंचरण तंत्र, दमा, निमोनिया संबंधी बीमारियां थीं।

    रिपोर्ट के अनुसार, कोविड-19 से 1,60,618 लोगों की मौत हुई जो इस श्रेणी में कुल मामलों का 8.9 प्रतिशत है । इसमें पुरूषों की संख्या 1,14,217 और महिलाओं की संख्या 46,401 थी। इसमें कहा गया है कि चिकित्सकों द्वारा प्रमाणित, कोविड के कारण मौत के सबसे अधिक, 17.7 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र में दर्ज किये गए।

    वहीं, चिकित्सकों द्वारा प्रमाणित, कोविड के कारण कुल मौतों में मणिपुर में 15.5 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में 15 प्रतिशत, हिमाचल प्रदेश में 13.5 प्रतिशत, उत्तराखंड में 12.8 प्रतिशत, आंध्र प्रदेश में 12 प्रतिशत, पंजाब में 11.9 प्रतिशत, दिल्ली में 10.8 प्रतिशत मामले दर्ज किये गए।

    रिपोर्ट के अनुसार, इस श्रेणी में वर्ष 2020 में अरूणाचल प्रदेश और लक्षद्वीप में चिकित्सकों द्वारा प्रमाणित कोई मामला दर्ज नहीं किया गया। चिकित्सकीय रूप से प्रमाणित मौतों में परिसंचरण तंत्र से जुड़ी बीमारियों के कारण 5.80 लाख लोगों की जान गई, जिसमें हृदय रोग शामिल है। वहीं, श्वसन प्रणाली से जुड़े रोगों के कारण 1.81 लाख लोगों की मौत हुई।

    गौरतलब है कि नौ मार्च 2022 को राज्यसभा में अबीर रंजन बिस्वास के प्रश्न के लिखित उत्तर में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने बताया था कि 9 मार्च की स्थिति के अनुसार, देश में राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से मिली सूचना के अनुरूप कोविड-19 के कारण मौतों की संख्या 5,15,355 थी।(एजेंसी)