सीएच विट्टल (Photo Credits-ANI Twitter)
सीएच विट्टल (Photo Credits-ANI Twitter)

    नई दिल्ली: तेलंगाना कर्मचारी संघ के पूर्व अध्यक्ष और पृथक तेलंगाना राज्य आंदोलन के प्रमुख चेहरों में एक रहे ‘तेलंगाना विट्टल’ के नाम से मशहूर सीएच विट्टल (Ch Vittal) सोमवार को अपने समर्थकों के साथ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, भाजपा महासचिव व तेलंगाना के प्रभारी तरुण चुग, पार्टी के मीडिया प्रभारी एवं राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी और पार्टी की तेलंगाना इकाई के सदस्य संजय कुमार बंदी की मौजूदगी में विट्टल सहित अन्य नेताओं ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।  

    नकवी ने विट्टल का भाजपा परिवार में स्वागत करते हुए कहा कि यह दर्शाता है कि भाजपा नेतृत्व की स्वीकार्यता हर समाज, वर्ग और क्षेत्र में बढ़ रही है। उन्होंने कहा, ‘‘देश में एक तरफ वंशवाद का विस्तार हुआ है और इसके लिए लड़ाई लड़ी जा रही है। वहीं, दूसरी तरफ लोकतंत्र के विस्तार और उसकी स्वीकार्यता को बढ़ाने के लिए भाजपा काम कर रही है। यानी वंशवाद विरुद्ध लोकतंत्र।” उन्होंने कहा कि लोग आज भाजपा और लोकतंत्र का साथ दे रहे हैं और इसका एक ही प्रमुख कारण है कि देश दो सियासी खेमों में बंटा हुआ है।

     

    उन्होंने कहा, ‘‘एक तरफ वंशवाद पर विश्वास करने वाली पार्टियां हैं तो दूसरी तरफ लोकतंत्र पर विश्वास करने वाली भाजपा है।”चुग ने इस अवसर पर तेलंगान के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) पर निशाना साधा और कहा कि अलग तेलंगाना राज्य के लिए जिन लोगों ने संघर्ष किया, उन सभी को उन्होंने बाहर कर दिया।

    उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘एक तरफ लोग अलग राज्य के लिए संघर्ष रहे थे और कुर्बानियां दे रहे थे, तब केसीआर बच्चे और परिवार के सदस्य विदेशों में ऐशोआराम कर रहे थे। आज सत्ता उनके हाथ में है ओर तेलंगाना परिवार के लूट का केंद्र बना हुआ है।”  

    चुग ने दावा किया कि आंदोलन से जुड़े लोग श्रृंखलाबद्ध होकर भाजपा में शामिल हो रहे हैं ओर यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने कहा, ‘‘आज आंदोलन का एक बड़ा चेहरा रहे विट्टल भाजपा में शामिल हुए हैं। उनके शामिल होने से भाजपा वहां मजबूत होगी।

    तेलंगाना के संघर्ष की अग्नि को प्रज्जवलित करने वाले नेता हो या वोटर हो सपोर्टर, सभी भाजपा में शामिल हो रहे हैं। यह यात्रा अब रुकने वाली नहीं है। यह काम अब निरंतर चलता रहेग। हर गांव के तेलंगाना आंदोलन के क्रांतिकारियों को हम भाजपा में शामिल करेंगे।”