corona
File Photo: PTI

    तिरुवनंतपुरम. केरल (Kerala) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले फिर एक बार तेजी से बढ़ रहे हैं। जो पुरे देश के लिए खतरा बन सकते हैं। राज्य में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) के 22 हजार से अधिक नए मामले सामने आए हैं, जबकि 128 कोरोना मरीजों की मौत हो गई है। राज्य में सबसे ज्यादा मामले मलाप्पुरम, त्रिशूर और कोझिकोड में सामने आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि राज्य में सामूहिक और सामाजिक समारोहों में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित हो रहे हैं और कोविड-19 दिशानिर्देशों का ठीक से पालन नहीं हो रहा है।

    स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक राज्य में पिछले 24 घंटे में 22,064 नए मामले सामने आए हैं। जहां मलाप्पुरम जिले में सबसे ज्यादा 3,679, त्रिशूर में 2,752 और कोझिकोड में 2,619 मामले सामने आए हैं। राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 33,49,365 हो गई है। वहीं राज्य में पिछले 24 घंटे में 128 कोरोना मरीजों की मौत होने के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 16,585 हो गई है।

    स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक राज्य में पिछले 24 घंटे में 16,649 मरीजों के संक्रमण मुक्त होने के बाद कुल स्वस्थ हुए लोगों की संख्या बढ़कर 31,77,453 हो गई। फिलहाल 1,54,820 मरीजों का उपचार चल रहा है।

    केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज (State Health Minister Veena George) ने बताया कि पिछले 24 घंटे में 1,63,098 नमूनों की जांच हुई और जांच संक्रमण दर 13.53 फीसदी दर्ज की गई। राज्य में अब तक 2,68,96,792 नमूनों की जांच हुई है।

    वहीं सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण (Union Health Secretary Rajesh Bhushan) ने हाल ही में केरल में मनाए गए “सुपर स्प्रेडर इवेंट्स” पर केरल सरकार को पत्र लिखा। जिसमें उन्होंने ने उल्लेख किया है कि COVID-19 दिशानिर्देशों का ठीक से पालन करने की आवश्यकता है। सामूहिक/सामाजिक समारोहों में  दिशानिर्देशों का अनुपालन सख्ती से लागू करने की आवश्यकता है।

    केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव के उक्त पत्र पर स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने कहा कि, “मुझे उस पत्र के बारे में कोई जानकारी नहीं है। ऐसा कोई संदेश नहीं है। मुझे नहीं पता क्योंकि मुझे इसकी जानकारी नहीं है। मुझे लगता है कि उन्हें (राज्य के स्वास्थ्य सचिव) केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव से ऐसा कोई पत्र नहीं मिला है।”

    जॉर्ज ने कहा कि, “केरल के खिलाफ सुनियोजित अभियान है। विभिन्न राज्यों के सभी विशेषज्ञों का कहना है कि हमारे पास बहुत अच्छा रक्षा तंत्र है। ICMR द्वारा सिरोप्रवैलेंस अध्ययन से पता चलता है कि लगभग 42% लोगों में एंटीबॉडी हैं, यह दर्शाता है कि हमारा निवारक तंत्र बहुत अच्छा था।”

    स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, “कुल आबादी का 50% से अधिक अभी भी अप्रभावित है। इस चरण में जिस प्रकार का कोरोना वायरस फैल रहा है, वह डेल्टा वायरस है, संक्रामकता अधिक है। इसलिए, स्वाभाविक रूप से, हम अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे हैं।”