हनी ट्रैप की साजिश रच कर कैरियर बर्बाद करने का प्रयास

  • अभिषेक पाटिल ने किया खुलासा

जलगांव. एनसीपी के महानगर अध्यक्ष अभिषेक पाटिल ने खुलासा किया है कि कुछ लोग उन्हें हनी ट्रैप की साजिश से परेशान कर उनका राजनीतिक कैरियर समाप्त करना चाहते हैं. जिससे जिले की राजनीति में हलचल मच गई है.अभिषेक पाटिल ने एक प्रेस कांग्रेस में कहा कि मनोज वाणी नामक व्यक्ति उनका राजनीतिक जीवन समाप्त करना चाहता है. उसने एक महिला को सुपारी दी है. अश्लील तस्वीरें और वीडियो निकालने के लिए एडवांस पैसे दिये हैं. यही नहीं, बलात्कार का झूठा आरोप लगाने के लिए कहा है. जिसका पर्दाफ़ाश स्वयं अभिषेक पाटिल ने किया है.उन्होंने इस हनी ट्रैप की साजिश रचने की जानकारी पुलिस विभाग को भी दी है.

बढ़ते प्रभाव से विरोधियों में घबराहट

प्रेस कांफ्रेंस में राकां जिला महानगर अध्यक्ष अभिषेक पाटिल ने बताया है कि उन्होंने जलगांव विधानसभा चुनाव 2019 लड़ा है और वर्तमान में 15 जनवरी से राकां के जलगांव महानगर अध्यक्ष के रूप में काम कर रहे हैं.उनके बढ़ते प्रभाव से विरोधियों में घबराहट है.जिसके कारण उनका राजनीति जीवन हनी ट्रैप की साजिश रच कर बर्बाद करना चाहते हैं. ऐसा खुलासा स्वयं नगर में लकड़ियां सप्लाई करने वाली महिला ने  अभिषेक पाटिल से मिलकर व्हाट्सएप मैसेज दिखाकर किया.

महिला के व्हाट्सएप पर मिला मैसेज

अभिषेक पाटिल ने बताया कि वह महिला कार्यालय में आयी और कहा कि मेरे पास तुम्हारा काम है लेकिन मैं ऐसा नहीं करूंगी क्योंकि तुम एक अच्छा राजनीतिक काम कर रहे हो और मैं तुम्हारा जीवन बर्बाद नहीं करना चाहती.उस महिला से पूछा कि वह क्या काम करती है?उसने बताया कि वह शहर के नामी,राजनीतिक लोगों को लड़कियां सप्लाई करती है.

एक राजनीतिक नेता की अश्लील तस्वीरें वायरल हुईं थीं. उसी तरह एक वेश्या को 5 लाख रुपये की सुपारी का भुगतान किया गया ताकि नकली अश्लील फोटो और वीडियो के माध्यम से झूठा दुष्कर्म का वीडियो बनाकर राजनीतिक जीवन समाप्त किया जा सके. मेरी तस्वीरें और मेरा मोबाइल नंबर मनोज वाणी ने उक्त महिला के व्हाट्सएप पर भेजा है. वाणी और उस महिला के पीछे किसी बड़े राजनीतिक दल के व्यक्ति का हाथ है .इस प्रकरण की कड़ी जांच कराई जाए.

-अभिषेक पाटिल

मैं पूरी तरह से पेशेवर व्यक्ति हूं और मेरा किसी राजनेता से कोई लेना-देना नहीं है. व्यापार और राजनीति के कारण अनेक लोगों से परिचित हूं. इसमें कुछ भी गलत नहीं है.  मैंने अभिषेक पाटिल का मोबाइल नंबर कई लोगों को दिया है.नम्बर लेने वाले व्यक्ति इसका दुरुपयोग किया, इसका मैं कैसे जिम्मेदार हुआ. जलगांव लौटूंगा, तो मैं खुलकर अपना पक्ष रखूंगा.

-मनोज वाणी