ज्ञान की बात : जानें ऐसी कौनसी बीमारियां हैं जिनकी वैक्सीन अभी तक नहीं बनी, लोगों ने गवाई जान

    नई दिल्ली : वर्तमान में हम सब यह बात कह सकते है कि वैक्सीन (Vaccine) किसी अमृत से कम नहीं। जिसे लेकर हम अपनी जान बचा सकते है। कोरोना महामारी में बचाव में सबसे अहम भूमिका वैक्सीन ने निभाई है और काफी चर्चा में भी रही है। इस कोरोना बिमारी से बचने के लिए दुनिया भर में करोड़ों लोग वैक्सीन लगवा चुके है और अब भी वैक्सीनेशन का काम निरंतर जारी है। 

    इससे पहले भी एसी कई बीमारियां (Diseases) आयी है, जो संक्रमित करती थी। लेकिन आज तक उनकी वैक्सीन यानी टीका नहीं बन पाया है। आज हम आपको इससे जुड़ी जानकारी देने जा रहे है जिन बीमारियों की आज तक वैक्सीन नहीं बन पाई है। 

    एवियन इन्फ्लूएंजा 

    दरअसल रिपोर्ट्स के मुताबिक, एवियन इन्फ्लूएंजा (बर्ड फ्लू) के वायरस का पता पहली बार 1997 में लगा था। जहां पहला मामला हांगकांग से सामने आया था। H5N1 वायरस पक्षियों के मल से मनुष्यों में फैलता है, विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, 2013 और 2017 के बीच कुल 1,565 संक्रमणों की सूचना मिली थी।

    जहां 39 प्रतिशत संक्रमितों की मृत्यु हो गई थी। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, इस वायरस का मानव-से-मानव संचरण असामान्य है। यह वायरस अफ्रीका, एशिया और यूरोप के पचास से अधिक देशों में फैल चुका है।

    सार्स-कोवी

    आपको बता दें कि सार्स-कोवी कोरोना वायरस जैसा ही है। जिसके बारे में साल 2003 में पता चला था। इसका पहला मामला चीन से सामने आया था।  रिपोट्स के अनुसार ये माना जाता है कि ये बीमारी चमगादड़ों से इंसान में आई। इस वायरस के दौरान सांस लेने की समस्या होती है।

    खबरों के अनुसार 2003 में 26 देशों में इससे करीब 8000 से ज्यादा लोग संक्रमित हुए थे। और लगभग 916 लोगों की संक्रमण से जान चली गई थी। फिलहाल इसके संक्रमण के कम मामले सामने आए हैं। 

    HIV एड्स वायरस

    हम सब जानते है कि एचआईवी एक ऐसी खतरनाक बीमारी है। जिसका कोई इलाज नहीं है। इस बीमारी के बारे में वैज्ञानिकों को 3 दशक यानी 30 साल पहले पता चला था। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार एचआईवी से लगभग 3.2 करोड़ लोगों की मौत हो चुकी है।

    कई कोशिशों के बाद भी आज तक इस बीमारी के लिए कोई दवा नहीं बन पाई। इसलिए इससे बचने के लिए परहेज की सलाह दी जाती है। एचआईवी संक्रमण की मुख्य वजह यौन संबंध मानी जाती है।