सरनाईक से 6 घंटे की पूछताछ

  • ईडी ने नहीं दिया दोबारा समन
  • जांच में सहयोग का आश्वासन

मुंबई. शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक (Shiv Sena MLA Pratap Sarnaik) मनी लांड्रिंग मामले की जांच के संबंध में गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) के सामने पेश हुए। सरनाईक बल्लार्ड एस्टेट इलाके में ईडी के कार्यालय में सुबह करीब 11 बजे पहुंचे। करीब 6 घंटे की पूछताछ के बाद जब सरनाईक ईडी दफ्तर से बाहर निकले तो मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने बताया कि टॉप्स सिक्योरिटी में हुए घोटाले की वजह से ईडी ने मुझे 2 बार बुलाया था, लेकिन कुछ चीज़ो की वजह से मै जाँच में शामिल नहीं हो पाया। 

सूत्रों के अनुसार, ईडी अधिकारियों ने पूछताछ में सभी एंगल से पूछताछ की, जिनमें पोलिटिकल और फ़ाइनेंशियल के अलावा बिज़नेस सहित परिवार के बारे में भी पूछताछ की, जिसका हर सवालों का जबाब मैंने दे दिया। इस जबाब से ईडी संतुष्ट है या नहीं, यह मैं नहीं बता सकता, लेकिन ईडी ने मुझे दोबारा बुलाया नहीं है। मैंने ईडी को कहा है की अगर टॉप्स सिक्यूरिटी का घोटाला हुआ है तो वह जरूर बाहर आना चाहिए, इसके लिए मैं हर संभव मदद करूंगा। सरनाईक ने यह भी कहा की सरनाईक और उनके परिवार को नोटिस देकर बुलाने की जरुरत नहीं है, जब भी ईडी हमें बुलाएगी हम 2 घंटे में ईडी के सामने होंगे।

मामला सुरक्षा सेवा प्रदान करने वाली कंपनी ‘टॉप्स सिक्यूरिटी ग्रुप’, उसके प्रमोटरों और अन्य के खिलाफ जांच से जुड़ा है। इन पर मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (MMRDA) के लिए कंपनी के सुरक्षा गार्ड मुहैया कराने में वित्तीय अनियमितताएं करने का आरोप है। ईडी ने इस मामले में अब तक ‘टॉप्स ग्रुप के प्रबंध निदेशक एम। शशिधरन और सरनाईक के कथित सहयोगी अमित चंदोले को गिरफ्तार किया है। सरनाईक को उच्चतम न्यायालय से अंतरिम राहत मिल गई है। शीर्ष अदालत ने आदेश दिया है कि जांच एजेंसी (ईडी) सरनाईक के खिलाफ पीएमएलए की आपराधिक धाराओं के तहत बलपूर्वक कोई कार्रवाई नहीं करेगी।