बीजेपी के 27 नगरसेवक नॉट रिचेबल !, हाथ से खिसक सकती है जलगांव मनपा

    मुंबई. मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर के बाहर विस्फोटक रखने  का मामला गर्म है। इस बीच जलगांव महानगरपालिका (Jalgaon Municipal Corporation) में बड़ा उलटफेर देखने को मिल सकता है। सांगली-मिरज के बाद अब जलगांव के 27 बीजेपी नगरसेवक (BJP Corporators) नॉट रिचेबल हैं। सूत्रों के मुताबिक, सभी शिवसेना (Shiv Sena) के संपर्क में हैं, जिसकी वजह से अगला महापौर (Next Mayor) शिवसेना का बन सकता है। हालांकि भाजपा की तरफ से कहा गया है कि सभी नगरसेवकों को नेतृत्व पर पूरा भरोसा है वे दूसरी पार्टियों में जाने वाले नहीं हैं। एकनाथ खडसे के पार्टी छोड़ने के बाद उत्तर महाराष्ट्र में बीजेपी विशेषकर पूर्व मंत्री गिरीश महाजन के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

    पिछले चुनाव में जलगांव मनपा की कुल 75 सीटों में से  57 नगरसेवक भाजपा के निर्वाचित हुए थे। शिवसेना के खाते में 14 सीटें आई थी। कांग्रेस एवं एनसीपी का खाता भी नहीं खुला पाया था। भाजपा के दिग्गज नेता रहे एकनाथ खड़से के एनसीपी में जाने के बाद से ही बीजेपी नगरसेवकों के पाला बदलने की खबरें जोर पकड़ने लगी थीं। जलगांव मनपा महापौर का ढ़ाई साल का कार्यकाल 17 मार्च को समाप्त हो रहा है।18 मार्च को महापौर एवं उप महापौर का चुनाव होना है। इस बीच, भाजपा के 27 नगरसेवक एक साथ पिकनिक मनाने चले गए हैं। उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, भाजपा नगरसेवकों को अभी तक पार्टी का व्हिप भी नहीं दिया गया है।

    गुलाबराव पाटिल के फार्महाउस बगावत की पूरी स्क्रीप्ट लिखी गयी!

    बताया जा रहा है कि जलगांव के पालक मंत्री गुलाबराव पाटिल के फार्महाउस बगावत की पूरी स्क्रीप्ट लिखी गयी।  यह भी बताया गया कि सभी नगरसेवकों को अब अन्यत्र भेज दिया गया है। इस खबर से भाजपा में बेचैनी बढ़ गयी है। पार्टी के वरिष्ठ नेता नगरसेवकों से संपर्क स्थापित करने का प्रयास कर रहे हैं। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी विश्वास पाठक ने यह स्वीकार किया है कि कुछ नगरसेवक  नॉट रिचेबल हैं, लेकिन वे पार्टी से बगावत कर दूसरी पार्टियों में जायेंगे इस तरह की संभावना नहीं है। जलगांव मनपा से बीजेपी की सत्ता जाती है तो यह प्रदेश के शीर्ष नेतृत्व के लिए चिंता की बात होगी।