udyan

मुंबई. आरक्षण के योग्यता और आर्थिक मानदंडों पर आधारित होने के भाजपा नेता तथा सांसद उदयनराजे भोसले (Udhayanraje Bhonsle) के सुझाव को मंगलवार को शिवसेना ने ”क्रांतिकारी” व्यवस्था करार दिया है। मराठा योद्धा छत्रपति शिवाजी के वंशज भोसले ने योग्यता पर आधारित आरक्षण का समर्थन करते हुए कहा है कि वह जाति आधारित आरक्षण को खत्म करके आर्थिक और योग्यता के मानदंडों पर आधारित आरक्षण के हिमायती हैं।

भोसले ने मराठा समुदाय के बीच व्याप्त ”गहरे असंतोष” के विकराल रूप धारण करने की चेतावनी देते हुए रविवार को कहा था कि अगर उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली महाराष्ट्र सरकार राज्य में मराठा आरक्षण कानून लागू करने में नाकाम रहती है तो सभी समुदायों को मिला आरक्षण भी समाप्त कर दिया जाना चाहिये। शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा गया है, ”इन हालात में, सभी समुदायों का आरक्षण समाप्त करके योग्यता आधारित आरक्षण देने की छत्रपति उदयनराजे की अपील क्रांतिकारी है। ”

संपादकीय में कहा गया है कि मुख्यमंत्री तथा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का विचार है कि मराठा और ढांगर समुदायों को उनके हिस्से का आरक्षण मिलना चाहिये। दरअसल, उच्चतम न्यायालय ने नौकरियों और शिक्षा में मराठा समुदाय को आरक्षण देने के कानून के कार्यान्वयन पर रोक लगा रखी है, जिसे लेकर महाराष्ट्र सरकार और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला चल रहा है।