कोरोना संकट का सामना करने के लिए बीएमसी कमिश्नर को मिला अवार्ड

  • राज्यपाल कोश्यारी ने प्रदान किया अवार्ड

मुंबई. राज्य की राजधानी में कोरोना संकट का बेहतर ढंग से मुकाबला करने के लिए बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल को इंडो अमेरिकन चेंबर ऑफ कामर्स की तरफ से ‘आइएसीसी कोविड क्रूसेडर अवार्ड 2020’ से सम्मानित किया गया है. राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी के हाथों शुक्रवार शाम 6 बजे अवार्ड प्रदान किया गया. 

इंडो-अमेरिकन चेंबर्स ऑफ कॉमर्स और मुंबई में अमेरिकन दूतावास ने संयुक्त रुप से यह पुरस्कार दिया है. देश के भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी वर्ग में इकबाल सिंह चहल को विजेता घोषित किया गया था. यह पुरस्कार पाने की दौड़ में 76 आइएएस अधिकारी शामिल थे जिसमें से 41 अधिकारियों को नामांकन की अंतिम सूची में शामिल किया गया था. प्रतिष्ठित और विशेषज्ञों के परीक्षक मंडल ने इकबाल सिंह चहल को विजेता घोषित किया.  

ऑनलाइन आयोजित किया गया था समारोह

 पुरस्कार समारोह ऑनलाइन आयोजित किया गया था. प्रमुख अतिथि के तौर पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी उपस्थित थे. अमेरिका के मुंबई में राजदूत डेविड जे रांज, आइएसीसी की राष्ट्रीय अध्यक्ष राज्यलक्ष्मी राव, पश्चिम विभाग के अध्यक्ष नौशाद पंजवानी, आनंद देसाई, पूर्वी चोथानी, प्रादेशिक निदेशक राखी पांडा भी इस अवसर पर उपस्थित थीं. भारत और अमेरिका के उन संस्थाओं, लोगों को यह पुरस्कार प्रदान किया गया जिन्होंने कोविड-19 की लडाई में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है. पुरस्कार पाने वालों में व्यक्ति, संस्था, नव उद्यमी, कॉरपोरेट्स, लघु उद्योग, गैर सरकारी संस्था, प्रशासकीय ऐसे विभिन्न केटेगरी वाले दोनों देशों के लोग शामिल थे. 

पुरस्कार प्राप्त करना गौरव की बात 

पुरस्कार ग्रहण करने के बाद अपने संबोधन में इकबाल सिंह चहल ने कहा कि कोविड-19 वायरस से लड़ने के लिए राज्य सरकार ने 8 मई को उन्हें बीएमसी में भेजा था, जिसके उपरांत कोरोना को नियंत्रण में लाने के लिए चेज द वायरस से अपने काम की शुरुआत की थी. उसके बाद पांच सूत्रीय टेस्टटिंग,  ट्रेसिंग, ट्रेकिंग, एंबुलेंस मैनेजमेंट, अस्पताल मैनेजमेंट, पेशंट मैनेजमेंट को ऑटो पायलट मोड में डाला जिससे मुंबई की स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने में आशातीत सफलता मिली. उन्होंने कहा कि पुरस्कार प्राप्त करना गौरव की बात है. कोरोना से लड़ाई में हमने बीएमसी के 200 कर्मचारियों को खोया और 5000 कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हैं फिर भी हम रुके नहीं हैं. मानवता की सेवा करनेवाले कर्मचारियों को हम नमन करते हैं. चहल ने पुरस्कार प्रदाता आइएसीसी का भी आभार व्यक्त किया.