Minister Nitin Raut

  • बीजेपी का हमला, गृहमंत्री से इस्तीफे की मांग

मुंबई. ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने सोमवार को ग्रिड फेल होने के पीछे बड़ी साजिश की आशंका जताई है और कहा है कि यह ऊर्जा विभाग को बदनाम करने के लिए यह षडयंत्र हो सकता है. उधर, ऊर्जा मंत्री के बयान पर बीजेपी ने बड़ा हमला किया है. पूर्व मंत्री आशीष शेलार ने जहां मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर इस बात की जांच करवाने की मांग की है कि ऊर्जा विभाग को बदनाम कौन कर रहा है, वहीं बीजेपी विधायक अतुल भातखलकर ने इस संदर्भ में गृहमंत्री अनिल देशमुख से इस्तीफे की मांग की है.

मंत्री नितिन राउत ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि 2 दिन पहले मुंबई में बिजली आपूर्ति ठप होने की घटना के पीछे किसी साजिश से इंकार नहीं किया जा सकता है. यह जानबूझकर की गई हरकत हो सकती है. महानगर मुंबई, ठाणे और नवी मुंबई में बिजली आपूर्ति ठप होना कोई छोटी बात नहीं है.

विस्तृत जांच का आदेश दिया गया 

ऊर्जा मंत्री राउत ने कहा कि हम 400 केवी कलवा-पड़घा लाइन पर काम कर रहे थे और लोड को सर्किट एक से दो पर स्थानांतरित किया गया था, लेकिन कुछ तकनीकी समस्या के कारण खारगर इकाई बंद हो गई. इस मामले की विस्तृत जांच का आदेश दिया गया है. मंगलवार की रात राउत ने ट्वीट कर साजिश की आशंका जताई थी.

कौन कर रहा है उर्जा विभाग को बदनाम : शेलार

ऊर्जा मंत्री के बयान के बाद बीजेपी नेता आशीष शेलार ने सवाल दागा है कि आखिरकार ऊर्जा विभाग को बदनाम कौन कर रहा है? उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर जांच की मांग की है. अचानक विद्युत आपूर्ति ठप होने से मुंबई, ठाणे, नवी मुंबई और रायगढ़ जिले के विद्यार्थियों, मरीजों, यात्रियों के साथ आम नागरिकों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा था. ऊर्जा मंत्री के बयान को गंभीरता से लेने की जरुरत है. उन्होंने पूछा है कि आखिर विभाग को बदनाम कौन करना चाहता है. वर्ष 2010 में भी इसी तरह की घटना हुई थी. उस समय गठित अजोय मेहता समिति की रिपोर्ट को सरकार ने स्वीकार किया था क्या? भविष्य में इस तरह की घटना को टालने के लिए मेहता समिति की किस उपाय योजना को लागू किया जाएगा.

गृह मंत्री इस्तीफा देना: भातखलकर

बीजेपी विधायक अतुल भातखलकर ने इस मामले में गृहमंत्री अनिल देशमुख से इस्तीफे की मांग की है. उन्होंने कहा है कि ऊर्जा मंत्री ने साजिश की आशंका जताई है. ग्रिड फेल होने से लोगों को परेशानी हुई. 2 लोगों की जान चली गई. इस मामले में गृहमंत्री अनिल देशमुख को इस्तीफा दे देना चाहिए.