Ashish Shelar

 – 3,41, 308 छात्रों का भविष्य लटका

– बीजेपी नेता शेलार का सरकार पर हमला

मुंबई. यूनिवर्सिटी की अंतिम वर्ष की परीक्षा रद्द करने को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. बीजेपी के पूर्व मंत्री आशीष शेलार ने कहा है कि ठाकरे सरकार ने एटीकेटी व बैकलॉग के करीब 3 लाख 41हजार 308  छात्रों की परीक्षा के  बारे में कोई फैसला नहीं लिया है.

 इस वजह से इन छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है. शेलार ने सरकार से कहा कि छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए उन्हें एक समान फैसला करना चाहिए था, जिससे एटीकेटी व बैकलॉग के छात्रों की समस्या का भी समाधान होता.

सरकार के फैसले से विपक्ष को पेट दर्द

उच्च शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने शेलार के आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि हमारी सरकार ने छात्रों के हितों को ध्यान में रखकर फैसला किया है. अब इस फैसले से विरोधियों के पेट में दर्द हो रहा है. उन्होंने कहा कि एटीकेटी व बैकलॉग छात्रों के बारे में हमनें साफ किया है कि इस बारे में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अगुवाई में कुलपति के साथ चर्चा करने के बाद जल्द फैसला लिया जाएगा. सामंत ने कहा कि विपक्ष के हर आरोप का जवाब देना जरुरी नहीं है, लेकिन इस तरह के आरोप से छात्रों में भ्रम का निर्माण होता है.विपक्ष को इस तरह की हरकत से बचना चाहिए.

सरकार का फैसला

महाराष्ट्र सरकार ने यूनिवर्सिटी की अंतिम वर्ष की परीक्षा न लेते हुए छात्रों को पिछले साल के ग्रेडिंग के आधार पर डिग्री देने का फैसला किया है. इसके मुताबिक बीए, बीएससी और बीकॉम जैसे गैर पेशेवर कोर्स के लिए कोई परीक्षा नहीं होगी. जिन छात्रों ने पिछले सभी सत्र पास किए हैंं तो उन्हें ग्रेडिंग के आधार डिग्री दी जाएगी, लेकिन एटीकेटी व बैकलॉग छात्रों के बारे में बाद में फैसला लेने की बात कही गई है.