किसान कानून महाराष्ट्र में नहीं करेंगे लागू

  • राजस्व मंत्री थोरात की घोषणा 

मुंबई. लोकसभा और राज्यसभा में किसान बिल के पारित होने के बाद अब राष्ट्रपति ने भी इसे मंजूरी दे दी है. राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद यह बिल कानून बन गया है. हालांकि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और महाराष्ट्र विकास आघाड़ी में राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने कहा है कि इस कानून को राज्य में किसी भी कीमत पर लागू नहीं किया जाएगा. 

उन्होंने कहा कि इस बिल का कांग्रेस शुरू से विरोध कर रही है. थोरात ने कहा कि यह कानून किसानों के हित में नहीं है. 

शिवसेना हमारे साथ

थोरात ने कहा कि किसान कानून के विरोध में कांग्रेस के साथ महाराष्ट्र सरकार में उनकी सहयोगी दल शिवसेना और एनसीपी भी हैं.उन्होंने इस बात से इंकार किया कि किसान कानून को लेकर सहयोगी दलों में कोई मतभेद है. 

फडणवीस और राउत की मुलाकात में दम नहीं 

थोरात ने कहा कि शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत अपनी पार्टी के मुखपत्र के वरिष्ठ पत्रकार हैं. ऐसे में वे किसी भी दल के नेता से मुलाकात कर सकते हैं. यह एक सामान्य मुलाकात है और इसे ज्यादा महत्व देने की जरुरत नहीं है. थोरात ने इस बात से इंकार किया कि नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस और राउत की मुलाकात से कांग्रेस नाराज है.