Python found in CBD

    नवी मुंबई. सीबीडी (CBD) के सेक्टर-15 (Sector -15) में विगत 2 महीने से एक अजगर (Python) लोगों को कभी कभार नजर आता था। जिसकी वजह से उक्त परिसर में रहने वाले नागरिकों में इस अजगर का खौफ पैदा हो गया था। जिसे अब सर्प मित्रों ने पकड़ने में सफलता पाई है । इस अजगर को वन विभाग (Forest Department) के अधिकारियों के मार्गदर्शन में समीप के जंगल (Forest) में सुरक्षित छोड़ दिया गया है। जिसके बाद अब सीबीडी के सेक्टर-15 में रहने वाले नागरिकों ने राहत की सांस ली है।

     गौरतलब है विगत 2 माह से कभी कभार नजर आने वाला यह अजगर 15 फरवरी 2021 को फिर से दिखाई दिया था। जिसका वीडियो बनाकर यहां के निवासी संजय राठोड ने पुनर्वसू फाउंडेशन के सर्पमित्र स्वप्नील साटम को भेजा था। जिसके बाद फाउंडेशन के लोगों ने उक्त परिसर में अजगर के ठिकाने का पता लगाने का प्रयाज जारी रखा था।

    खाली भूखंड में आया नजर

     22 फरवरी 2021 को यह अजगर सीबीडी के सेक्टर-15 स्थित प्रोग्रेसीव सोसायटी के पास एक खाली भूखंड में नागरिकों को नजर आया। जिसकी सूचना मिलने पर  पुनर्वसू फाउंडेशन के संस्थापक प्रितम भुसारे ने फाउंडेशन से जुडे सर्पमित्र रॉब्यूल शेख व अनिकेत कुदले को घटना स्थल पर भेजा। जहां पर पहुंचकर इन दोनों ने अजगर को पकड़ने का काम किया।

    अजगर की लंबाई 11.07 फुट

    सिडको के खाली भूखंड के पकड़े गए इस अजगर की लंबाई 11.07 फुट और वजन 28.78 किलो बताया गया है। इस विशाल काय अजगर के पकड़ने पर सीबीडी के सेक्टर-15 में रहने वाले नागरिकों ने पुनर्वसू फाउंडेशन के संस्थापक और सर्पमित्र रॉब्युल शेख और अनिकेत कुदले का आभार व्यक्त किया।

    पकड़ा गया मगरमच्छ

    उधर, सीबीडी स्थित नवी मुंबई महानगरपालिका के मुख्यालय को लगकर मनपा के तालाब में 17 फरवरी 2021 को एक बड़े आकार का मगरमच्छ दिखाई दिया था। जिसके बाद से इस मगरमच्छ को पकड़ने की जिम्मेदारी वाइल्ड लाइफ वेलफेयर एसोसिएशन व वन विभाग को सौंपी गई थी। जिसने सीसीटीवी व अत्याधुनिक तकनीक के सहारे उक्त मगरमच्छ को पकड़ने में सफलता पाई। जिसे पिंजरे में डालकर मुंबई स्थित संजय गांधी अस्पताल में जांच के लिए भेज दिया गया है।  वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार, मनपा मुख्यालय से लगा तालाब व खाडी के क्षेत्र से उक्त मगरमच्छ को पकड़ने में कामयाबी मिली। इस मगरमच्छ की लंबाई 6 फुट से अधिक है, जबकि इसका वजन 35 किलो से ज्यादा है।