अत्यावश्यक लोकल यात्रियों की सुरक्षा में आरपीएफ

– 2400 आरपीएफ-आरपीएसएफ कर्मी तैनात

मुंबई. मध्य रेल, राज्य सरकार द्वारा चिन्हित अत्यावश्यक कर्मचारियों के लिए 200 स्पेशल लोकल ट्रेनें (मेन लाइन पर 130 और हार्बर लाइन पर 70) चला रही है.इस संकटकाल में कर्मचारियों की सुरक्षित यात्रा के लिए मुंबई मंडल के आरपीएफ कर्मचारी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं.जीआरपी और सिविल पुलिस के साथ अच्छा समन्वय  बनाकर रेलवे सुरक्षा बल के जवानों ने मुंबईकरों को अपने उपनगरीय स्टेशनों और ट्रेनों में  सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने व नए तरीके अपनाने के लिए कई प्रयास किए हैं.

हजारों आवश्यक सेवाओं के कर्मियों को क्यू में खड़े करना ,गाड़ियों में सवार होना और सोशल डिस्टेंसिंग के उपायों का पालन करना एक कठिन चुनौती है. 

24 घंटे सपोर्ट सेवा हेल्पलाइन भी स्थापित 

मध्य रेल ने आवश्यक यात्रियों की सुरक्षा के लिए सीएसएमटी,दादर,ठाणे, डोंबिवली, कल्याण, पनवेल सहित सभी उपनगरीय स्टेशनों पर 2400 आरपीएफ और आरपीएसएफ कर्मियों को तैनात किया है. यात्रियों को मार्गदर्शन के साथ सर्कल्स,एरो, स्क्वॉयर,प्लेटफॉर्म और फ़ुट ओवर ब्रिज पर 50,000 से अधिक सोशल डिस्टेंसिंग मार्किंग के अलावा,सुरक्षित यात्रा के लिए स्टेशनों पर 1 या 2 एंट्री-एग्जिट पॉइंट सुनिश्चित करने के साथ स्टेशन सिक्योरिटी प्लान लागू करना, पैसेंजर्स को फॉलो करना, घोषणाओं के माध्यम से अनुशासित करना, सीसीटीवी आधारित वीडियो विश्लेषण जैसे तकनीकी साधनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. यात्रियों को संभावित संक्रमण से बचाने के लिए सीएसएमटी पर उच्च गति वाली स्वचालित थर्मल स्क्रीनिंग प्रणाली प्रारंभ,इमरजेंसी के लिए 24 घंटे सपोर्ट सेवा हेल्पलाइन भी स्थापित की गई है.

सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने की अपील 

मध्य रेल आरपीएफ ने यात्रियों को सुरक्षित यात्रा और वायरस मुक्त वातावरण प्रदान करने के लिए जीआरपी, स्थानीय पुलिस और नगर निगमों के साथ समन्वय किया है. मध्य रेल ने आवश्यक सेवाओं से जुड़े इन यात्रियों को चिकित्सा प्रोटोकॉल का पालन करने , मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने की अपील की है.