arrest

मुंबई. मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने वाहनों के फर्जी आरसी स्मार्ट कार्ड बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने इस मामले में 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. उनके पास से 18 फर्जी आरसी स्मार्ट कार्ड जब्त किया है.

क्राइम ब्रांच युनिट-12 को गुप्त सूचना मिली कि दहिसर (पूर्व) रेलवे स्टेशन के पास एक शख्स वाहनों के फर्जी आरसी स्मार्ट कार्ड बनाकर दे रहा है. पुलिस उपायुक्त अकबर पठान के मार्गदर्शन में प्रभारी पुलिस निरीक्षक महेश तावडे, पुलिस निरीक्षक सचिन गवस, सहायक पुलिस निरीक्षक प्रकाश सावंत, पुलिस नाइक मंगेश तावडे और संतोष बने की टीम ने ट्रैप लगाकर उसे पकड़ा.

18 फर्जी आरसी स्मार्ट कार्ड जब्त

 उसके पास से विभिन्न आरटीओ के 18 वाहनों के फर्जी आरसी स्मार्ट कार्ड बरामद हुए हैं. उससे पूछताछ में खुलासा हुआ कि पुराने स्मार्ट कार्ड को खरीद कर केमिकल की सहायता उसे साफ कर देते थे और उस पर स्क्रिन प्रींटिंग से छपाई कर वाहनों के फर्जी आरसी स्मार्ट कर बनाते थे. पुलिस ने उन्हें धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार कर लिया. उनकी पहचान कांदिवली (प.) के चारकोप इलाके में रहने वाले जयेश गोपालजी मेहता (50) और चारकोप के ही अविनाश राजाराम बोरकर (40) के रूप में हुई है. उन पर फर्जी दस्तावेज बनाने के मामले तिलक नगर,भांडुप और समता नगर पुलिस स्टेशन में भी दर्ज हैं.