पश्चिम रेलवे ने चलाई 1226 श्रमिक ट्रेन

– 18.44 लाख मजदूरों को पहुंचाया घर

मुंबई. लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए श्रमिक ट्रेन छोड़े जाने का सिलसिला जारी है.पश्चिम रेलवे ने लगभग 18 लाख 44 हजार  प्रवासी मजदूरों को 1226 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से उनके गृह राज्यों में पहुंचाया है.पश्चिम रेलवे के सीपीआरओ रविन्द्र भाकर के अनुसार इन विशेष ट्रेनों में प्रवासी मज़दूरों के लिए सबसे अधिक  ट्रेनें यूपी, बिहार के लिए चलाई गईं. विशेष श्रमिक ट्रेनें उड़ीसा, मध्य प्रदेश,झारखंड, छत्तीसगढ़, राजस्थान,उत्तराखंड,पश्चिम बंगाल,गुजरात,मणिपुर,जम्मू और कश्मीर,हिमाचल प्रदेश,तेलंगाना, आंध्र प्रदेश,तमिलनाडु,केरल, असम और महाराष्ट्र के लिए भी चलाईं गई.

मुंबई से गईं 187 ट्रेनें

187 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें पश्चिम रेलवे के मुंबई उपनगरीय खंड से निकली हैं, जिनमें बांद्रा टर्मिनस से 68, बोरीवली से 73,वसई रोड से 31, दहानू रोड से 2 और पालघर स्टेशन से 13 ट्रेनें शामिल हैं. इन ट्रेनों को गोरखपुर,जौनपुर,गोंडा, वाराणसी, प्रतापगढ़, भागलपुर, प्रयागराज, दरभंगा, दानापुर, हावड़ा आदि स्टेशनों के लिए रवाना किया गया. मुंबई डिवीजन ने सबसे अधिक 714 ट्रेनें,अहमदाबाद डिवीजन ने 259,वडोदरा डिवीजन ने 100, भावनगर डिवीजन ने 30, राजकोट डिवीजन ने 117 और रतलाम डिवीजन ने 6 श्रमिक ट्रेनों का परिचालन किया.17 जून को सूरत स्टेशन से एक श्रमिक ट्रेन उड़ीसा के ब्रह्मपुरी व और दूसरी ट्रेन बिहार के दानापुर के लिए छोड़ी गई.