nmc

  • 09 कर्मचारी जीएडी में पॉजिटिव
  • 03 अति. आयुक्त के कार्यालय में बाधित

नागपुर. सिटी में कोरोना के नए स्ट्रेन के धमाके का आलम यह है कि अब न केवल आम जनता बल्कि कोरोना से निपटने के उपाय करनेवाली महानगर पालिका को भी झटका पड़ने लगा है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कोरोना के चलते लक्ष्मीनगर जोन में कार्यरत इंजीनियर नितिन रामटेके की मौत हो गई. अधिकारी की मौत की खबर मनपा मुख्यालय में फैलते ही कई कर्मचारी सकते में है. विशेषत: मनपा मुख्यालय में अति. आयुक्त जलज शर्मा के कार्यालय में 3 कर्मचारी और सामान्य प्रशासन विभाग में भी 9 लोगों के पॉजिटिव होने की खबर फैलते ही हड़कम्प मचा हुआ है. एक दिन पहले पॉजिटिव कर्मचारियों की जानकारी उजागर हुई. वहीं, दूसरे दिन इंजीनियर के मौत ने पूरे परिसर को हिलाकर रख दिया है.

टेस्टिंग कराने से कतरा रहे कर्मचारी

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य विभाग, अग्निशमन विभाग और अन्य विभाग के कुछ कर्मचारी पॉजिटिव मिलने के बाद मनपा मुख्यालय में टेस्टिंग सेंटर लगाया गया था. एक दिन के लिए लगाए गए इस सेंटर पर सभी कर्मचारियों को स्वयं की जांच कराने की सूचना दी गई थी. किंतु आश्चर्यजनक यह था कि सैंकड़ों कर्मचारियों में से केवल 10 के करीब कर्मचारियों ने ही टेस्ट कराया था. हाल ही में हुई मनपा की सभा में महापौर दयाशंकर तिवारी द्वारा मनपा के सफाई कर्मचारियों को वैक्सीन सुनिश्चित करने के लिए एक सुझाव दिया गया. जिसमें वैक्सीन नहीं लेने पर इस माह का पूरा वेतन नहीं मिलने के निर्देश देने का सुझाव आयुक्त को दिया था. इसी तरह मनपा मुख्यालय में सभी की आरटीपीसीआर टेस्ट कराने के लिए कड़े निर्देश जारी करना जरूरी है. 

हरकत में आई मनपा संगठन

शुक्रवार को मनपा के इंजीनियर की मौत की खबर फैलते ही कर्मचारियों की संगठन राष्ट्रीय नागपुर कारपोरेशन एम्प्लाइज एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेन्द्र टिंगने, महासचिव रंजन नलावडे और प्रवीण तंत्रपाले ने मनपा आयुक्त को पत्र सौंपा. जिसमें मुख्यालय भी अब धीरे-धीरे कोरोना की चपेट में आने का हवाला देते हुए सरकारी निर्देशों के अनुसार प्रतिदिन केवल 25 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने की मांग की गई. यहां तक कि मुख्यालय और जोनल कार्यालय में कार्यरत सभी अधिकारी और कर्मचारियों की आरटीपीसीआर टेस्ट कराने तथा कार्यालयों में भीड़ न हो, इसके उपाय करने की मांग भी रखी गई. 

औसत से अधिक हो रहे टेस्ट

मनपा अधिकारियों की ओर से बताया गया कि भले ही राज्य में सर्वाधिक, इस शहर में कोरोना के पॉजिटिव दिखाई दे रहे हो, लेकिन यहीं पर सर्वाधिक टेस्ट भी हो चूके हैं. 30 लाख की जनसंख्या वाले शहर में अब तक 18 लाख टेस्ट हो चुके हैं. नियमों के अनुसार 10 लाख की जनसंख्या पर 4 लाख टेस्ट कराने का औसत निर्धारित है. इसकी तुलना में सिटी में औसत से अधिक टेस्ट कराए जा चुके हैं. फिर भी टेस्ट की संख्या बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है.