Youth dies due to gas geyser explosion

    नागपुर. छत्रपति चौक के मेट्रो स्टेशन के समीप मंगलवार की सुबह 1 महिला की लाश पाई गई थी. भले ही प्राथमिक जांच में डॉक्टर ने कोई संदेह न जताया हो लेकिन शुरुआत से ही प्रकरण संदेहास्पद बना हुआ था. महिला का साथी मौके से गायब था. उसका कुछ अतापता नहीं था. ऐसे में बुधवार की सुबह उसकी लाश सोनेगांव तालाब के किनारे मिली. अब यह मामला वाकई में संदेहास्पद बनता जा रहा है.

    जिस समय सुमन विनायक नंदपटेल की लाश देखी गई वह अर्धनग्न अवस्था में थी. इसीलिए उसके साथ कुछ अनुचित होने का अनुमान लगाया जा रहा था. आसपास के लोगों की मानें तो दीपक भगवान गोहाने हमेशा सुमन के साथ रहता था. दोनों भीख मांगकर अपनी गुजर-बसर करते थे. सभी को जानकारी थी कि दोनों पति-पत्नी हैं. सुमन की मौत के बाद से दीपक गायब था. बुधवार की सुबह 6 बजे के दौरान दीपक की लाश सोनेगांव तालाब के तट पर स्थित गणेश मंदिर की दीवार की बगल में मिली.

    खबर मिलते ही सोनेगांव के थानेदार दिलीप सागर अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे. तब तक दीपक की पहचान नहीं हुई थी. उसके गायब होने के कारण राणा प्रतापनगर पुलिस को सूचित किया गया. इंस्पेक्टर दिनकर ठोसरे अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे. तब साफ हो गया कि मरने वाला सुमन का साथी दीपक ही है. 

    24 घंटे के भीतर मिले दोनों के शव 

    डीसीपी नुरूल हसन भी मौके पर पहुंचे. सुमन की तरह दीपक के शरीर पर भी कोई जख्म के निशान नहीं हैं. ऐसे में दोनों की मौत की वजह क्या थी यह अब तक पता नहीं चल पाया है. पुलिस का कहना है कि सैनिटाइजर का सेवन करने से दीपक की मौत हुई है लेकिन आसपास कोई सैनिटाइजर की बोतल नहीं मिली है.

    सोमवार देर रात सुमन की मौत होना. इसके बाद दीपक का गायब होना और बुधवार को उसका मृतावस्था में मिलना संदेह पैदा करता है. हालांकि दोनों की मौत की वजह तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगी. पुलिस ने फिलहाल आकस्मिक मृत्यु का मामला दर्ज कर जांच आरंभ की है. वैसे सूत्रों की मानें तो सोमवार देर रात थ्री सीटर ऑटो में सवार 3 लोगों को दीपक और सुमन के पास देखा गया था. अब उनका इस मामले से क्या लेना-देना है, यह जांच का विषय है.