Coronavirus
Representational Pic

  • मनपा का कर्मचारियों को अजिबोगरीब आदेश

नागपुर. शहर में कोरोना पर नियंत्रण पाए जाने का दावा करते हुए मनपा की ओर से प्रतिदिन आंकड़े उजागर किए जा रहे हैं. हालांकि वास्तविक रूप में प्रतिदिन होनेवाली टेस्टिंग और उसी तरह प्रतिदिन उजागर हो रहे पाजिटिव और निगेटिव के आंकड़ों में भारी अंतर है. किंतु इसका खुलासा अधिकारियों की ओर से नहीं किया जा रहा है. अब मनपा प्रशासन की ओर से अजिबोगरीब आदेश आरआरटी (रैपिड रिस्पान्स टीम) के लिए जारी किया गया है. नए आदेश के अनुसार इस टीम को हर हाल में प्रतिदिन कम से कम 20 कोरोना पाजिटिव मरीजों को मनपा के कोविद केअर सेंटर्स में लाकर भर्ती कराना है.

रिपोर्ट भी करना है पेश

मनपा की ओर से कोरोना के नियंत्रण में जुटे कर्मचारियों को न केवल कोविद केअर सेंटर में 20 मरीजों को भर्ती कराना है, बल्की काम को अंजाम दिए जाने की रिपोर्ट तैयार कर वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी के पास जमा भी कराना है. हालांकि आदेश का पालन नहीं होने पर कार्रवाई को लेकर आदेश में कोई खुलासा तो नहीं किया गया, किंतु अघोषित रूप में आंकड़ा पूरा नहीं करनेवाली टीम के खिलाफ कार्रवाई होने की सूचनाएं जारी की गई है. उल्लेखनीय है कि मनपा ने मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी के तहत अब कोरोना पर नियंत्रण के लिए नई टीमों का गठन किया है. जिन्हें टीम द्वारा तैयार की गई सूची मुहैया कराई गई है. सूची के अनुसार संबंधित जोन के प्रभागों में जाकर जिनका एसपीओटू 95 प्रतिशत से कम है, उन्हें पकड़कर कोविद केअर सेंटर्स में लाना है. 

मृत्युदर पर नियंत्रण पाने की कवायद

प्रशासन की ओर से जारी किए गए आदेश में कहा गया कि इस तरह से कोरोना से होनेवाली मृत्यु दर पर नियंत्रण पाया जा सकेगा. साथ ही मरीजों को अविलंब सेवाएं भी दी जा सकेगी. जानकारों के अनुसार इस कार्य में मनपा ने शिक्षकों को भी जिम्मेदारी सौंपी है. जबकि मनपा शिक्षक संघ ने इसका खुला विरोध जताया है. संगठन ने कहा है कि हाल ही में हुई बैठक में जिन शिक्षकों के पास आनलाईन शिक्षा और कोरोना की दोहरी जिम्मेदारी है. उसमें से एक जिम्मेदारी कम करने के निर्देश जारी किए गए हैं. किंतु अब नया आदेश जारी कर नई जिम्मेदारी सौंपी जा रही है. महापौर को पत्र देकर इस वास्तविकता से अवगत भी कराया गया.