AAP Electricity Bills

  • आम आदमी पार्टी ने किया विरोध आंदोलन

नागपुर. लाकडाउन काल में अनापशनाप बिजली बिल भेजने और फिर माफ करने का वचन देने के बाद भी माफ नहीं करने के रवैये का विरोध करते हुए आम आदमी पार्टी ने शिवसेना के वचननामा की होली जलाई. आप के पदाधिकारियों ने कहा कि उद्धव ठाकरे ने विधानसभा चुनाव के समय अपने वचननामा में 100 यूनिट तक बिजली का उपयोग करने वालों के लिए बिजली की दर 30 फीसदी कम करने का आश्वासन दिया था लेकिन बिजली दर कम करना तो दूर 1 अप्रैल से 20 फीसदी रेट बढ़ा दिया. कोरोना लाकडाउन में भी राहत नहीं देते हुए अनापशनाप बिल भेजे गए.

छत्रपति शिवाजी महाराज का दिनरात नाम जपने वाली शिवसेना ने महंगी बिजली के सदंर्भ में अत्यंत दोगली भूमिका निभाते हुए जनता के साथ मजाक किया है. किसानों को दुष्काल के समय राहत देने का निर्णय लेने की बजाय शिवाजी महाराज के नाम पर अपनी पार्टी चलाने वाले उद्धव ठाकरे का बिजली बिल माफ नहीं करने का निर्णय जख्मों पर नमक छिड़कने जैसा है. आप की ओर से शिवसेना के वचननामा की होली जलाई गई और घंटानाद कर विरोध प्रदर्शन किया गया.

दिल्ली की तर्ज पर दें फ्री बिजली

आप के प्रदेश संयोजक रंगा राचुरे के निर्देश पर पूरे राज्य में सभी जिलों में आंदोलन किया गया. उन्होंने कहा कि जब तक दिल्ली की आम आदमी पार्टी की तर्ज पर राज्य के नागरिकों को 200 यूनिट तक बिजली माफी नहीं दी जाती तब तक संघर्ष जारी रहेगा.

आंदोलन में राज्य समिति सदस्य व विदर्भ संयोजक देवेंद्र वानखेड़े, जगजीत सिंग, शंकर इंगोले, भूषण ढाकूलकर, प्रशांत निलाटकर, कृतल वेलेकर, गिरीश तितरमारे, संजय सिंग, प्रतीक बावनकर, आकाश कावले, लक्ष्मीकांत दांडेकर, विकास घराडे, अफसर शेख, जयप्रकाश पवनीकर, हिदायत ली, अब्दुल हाफिज शेख, शरीफ अहमद, विजय धकाते, किशोर चीमुरकर, संजय जिवतोडे, विजय चापले, रवींद्र घिदोडे, संजय अनसारे, दिलीप बिडकड, चंद्रशेखर लोखंडे, दिलीप चोखद्रे, संतोष वैद्य, निखिल मेंनवडे, अरविंद पौनीकर, रोशन डोंगरे, जय चौहान, सचिन लोनकर, सुरेंद्र बरगडे, जगजीत सिंग, भूपाल सावरकर निलेश गाहलोट, रविकांत वाघ, दीपक भातखोरे, हेमंत पांडे, वैशाली डोंगरे, दिपाली पाटील, अमोल हड़के, स्वीटी इंदुरकर, माधुरी नहाते, शीला श्रीवास्तव सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए.