नवरात्र उत्सव न पड़ जाए भारी

  • कलेक्टर ने कोरोना को आमंत्रित नहीं करने की अपील की

नागपुर. केरल में ओनम उत्सव के लिए कोविड-19 के कुछ नियमों को शिथिल किया गया जिसके कारण कोरोना संक्रमण फिर बढ़ गया है. जिलाधिकारी रविन्द्र ठाकरे ने जिले के नागरिकों से अपील की है कि वे नवरात्र उत्सव में भीड़ ना करें और बिना जरूरत के घरों के बाहर नहीं निकलें. उन्होंने अपील की है कि नवरात्र में ऐसा कुछ ना करें जिससे उत्सव भारी पड़ जाए.

वे कोविड टास्क फोर्स वेबिनार में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि नवरात्र के पाद दशहरा, दीवाली के त्यौहार है. उत्सव के वातावरण में संक्रमित लोग भी घरों के बाहर निकल रहे हैं. वहीं ठंड में कोरोना की दूसरी लहर की संभावना डाक्टरों द्वारा व्यक्त किया जा रहा है. स्वास्थ यंत्रणा तो सज्ज है लेकिन नागरिकों से सहयोग की अपेक्षा है. बार-बार हाथ धोएं या सेनिटाइज करें, मास्क लगाएं, सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें.

प्लाज्मा डोनेट करने आगे आएं

जिप सीईओ योगेश कुंभेजकर ने वेबिनार में कहा जिले में कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने का प्रतिशत 89 प्रतिशत है. ग्रामीण भागों में भी 16896 मरीज स्वस्थ हुठए हैं. मेडिकल व मेयो में प्लाज्मा बैंक है. स्वस्थ हो चुके मरीजों को प्लाज्मा डोनेशन के लिए आगे आना चाहिए, यह अपील उन्होंने की.

डा. फैसले ने कहा कि अब तक मेयो व मेडिकल में 100 प्लाज्मा नमूने मिले हैं जिसमें से 80 लोगों को प्लाज्मा थैरेपी द्वारा उपचार दिया गया है. प्लाज्मा दान करने के लिए स्वस्थ हो चुके मरीज कोरोना होने से 28 दिनों के बाद आएं. प्लाज्मा डोनेट के लिए विशेष प्रकार के एंडीबाडी की जरूरत नहीं है सिर्फ आईजीजी एंडीबाडी की जरूरत है.