STUDENTS
file

    नागपुर. सिटी के छात्रों का रिजल्ट अब ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया के आधार पर तैयार किया जाएगा. इसका खाका जल्द तैयार किया जा रहा है. सीबीएसई ने 12वीं की परीक्षा रद्द करने के बाद रिजल्ट बनाने की प्रक्रिया पर ध्यान देना शुरू कर दिया है. सीबीएसई जल्द ही छात्रों का ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया के तहत उनका मूल्यांकन करेगा. इस क्राइटेरिया के आधार पर ही सिटी के छात्रों को 12वीं परीक्षा का परिणाम पता चल पाएगा.

    सीबीएसई बोर्ड की कक्षा 12वीं की इस वर्ष की परीक्षाओं को रद्द किए जाने के बाद स्टूडेंट्स के मूल्यांकन के लिए और सीबीएसई 12वीं रिजल्ट तैयार करने के लिए घोषित ‘ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया’ की डिटेल एक सप्ताह में जारी की जा सकती है. मूल्यांकन को लेकर छात्रों और शिक्षकों के बीच भी असमंजस की स्थिति थी. ऐसे में बोर्ड ने एक्सपर्ट टीम के साथ यह फैसला किया है. जल्द ही इसे लागू कराया जाएगा. इसकी तैयारी की जा रही है. 

    9वीं से 12वीं तक के अंक भी जुड़ सकते हैं 

    सीबीएसई बोर्ड 12वीं रिजल्ट के लिए ‘ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया’ में कई विशेषज्ञों द्वारा अभी भी प्रस्ताव देने का दौर जारी है. अभी भी कई तरह के सुझाव छात्रों के मूल्यांकन के लिए बोर्ड को मिल रहे हैं. शिक्षा के जानकारों ने बताया कि सुझाव ये भी मिले हैं कि सीबीएसई बोर्ड कक्षा 12वीं रिजल्ट तैयार करने में 11वीं और 12वीं के इंटरनल एसेसमेंट के अंकों के साथ-साथ कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षाओं के अंकों को भी शामिल करना चाहिए. वहीं कुछ अन्य विशेषज्ञों का मानना है कि स्टूडेंट्स के 9वीं के अंकों को भी ‘ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया’ में शामिल किया जा सकता है.

    जल्द से जल्द पूरा करना होगा प्रैक्टिकल

    सीबीएसई ने सिटी के स्कूलों को जल्द से जल्द प्रैक्टिकल की प्रक्रिया को पूरा करने निर्देशित किया है. सभी स्कूलों को कोविड-19 महामारी के चलते स्कूलों को बंद किए जाने से कक्षा 12 के स्टूडेंट्स के लिए लंबित प्रैक्टिकल एग्जाम और इंटरनल एसेसमेंट को 28 जून तक आयोजित कर लेने के निर्देश जारी किए हैं. बोर्ड द्वारा सोमवार, 7 जून को जारी निर्देश के अनुसार इन स्कूलों को अपने सभी स्टूडेंट्स के प्रैक्टिकल और इंटरनल एसेसमेंट के अकों को 28 जून तक ही बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड कर लेने होंगे.

    13 सदस्यीय टीम का गठन

    बोर्ड ने छात्रों के मूल्यांकन के लिए कमेटी भी बना ली है. इस कमेटी के एक्सपर्ट द्वारा कई पहलुओं पर विचार किया जा रहा है. छात्र-छात्राओं के मूल्यांकन के लिए ‘ऑब्जेक्टिव क्राइटेरिया’ को परिभाषित करने के लिए 13 सदस्यीय समिति का गठन किया है. यह 13 सदस्यीय समिति को अपनी रिपोर्ट 15 जून तक सबमिट करनी है जिसके बाद छात्रों के मूल्यांकन का काम किया जाएगा.