NMC

  • शिवसेना ने मनपा आयुक्त को ज्ञापन सौंप की मांग

नागपुर. महानगर पालिका में कचरा संकलन कम्पनी एजी एन्यवायरो द्वारा पूर्व सूचना दिए बगैर १२० बर्खास्त सफाई कर्मचारियों को वापस काम पर लेने हेतु शिवसेना के विधान परिषद सदस्य दुष्यंत चतुर्वेदी के नेतृत्व में मनपा आयुक्त राधाकृष्नणन को ज्ञापन सौंपा. इस दौरान दुष्यंत ने कहा कि झोन १ से ५ के कचरा संकलन का ठेका उक्त कम्पनी को दिया गया है. कम्पनी ने ११ अक्टूबर २०२० को 120 सफाई कर्मचारियों को लक्ष्मीनगर स्थित सुदर्शन हाल में बुलाकर बाउंसरों द्वारा दबाव निर्माण किया और बिना कोई कारण बताए टर्मिनेशन लेटर लेकर हस्ताक्षर करने को कहा. यह गैरकानूनी है. कर्मचारियों द्वारा टर्मिनेशन लेटर नकारने व दूसरे दिन काम पर जाने पर कम्पनी द्वारा उन्हें डयूटी पर नहीं लिया गया.

जान हथेली पर रखकर कर रहे काम

दुष्यंत ने कहा कि कोरोना काल में सफाईकर्मी अपनी जान हथेली पर रखकर शहर का कचरा उठा रहे हैं. यदि ये बेरोजगार हुए तो पूरे परिवार पर आर्थिक संकट गहरा जाएगा. इस मानवीय दृष्टिकोण पर गंभीरता से विचार किया जाना चाहिए. पिछले वर्ष जब एजी एन्यवायरो को शहर के कचरा संकलन का ठेका दिया गया तो कंपनी ने इन सभी कर्मचारियों को काम पर रखा और नियोजित रूप से तकरीबन १ वर्ष से इन कर्मचारियों के साथ कचरा संकलन का कार्य कर रही है ,अब ऐसी कौनसी विशेष स्थितियां उत्पन्न हो गई कि अब इन कर्मचारियों को काम पर से निकालने  की नौबत आ गई.

नहीं तो करना होगा उग्र आंदोलन

दुष्यंत ने कहा कि कम्पनी के वाहन एक या 2 दिन के अंतर पर कचरा उठा रहे हैं. कचरा संकलन की अधिकतर गाडियां यार्ड में खड़ी रहती है और नियमानुसार उपलब्धता लगने वाली संख्या की अपेक्षा कम है. यानि कम से कम संसाधनों में नियमो के विरूद्ध कार्य संपादन कर कम्पनी कामगारों को कम करके कोरा मुनाफा कमाकर मनपा तिजोरी को चूना लगाने का षड्यंत्र रच रही है.

मनपा को दी गई वाहनों की लिस्ट चेक की जाये और वाहनों के जीपीएस की केएमपीएल फाइल का मैप एप्लिकेशन द्वारा पिछले वर्ष भर का लोकेशन डाटा निकाला जाए तो भारी गड़बड मिलना तय है. यदि कम्पनी ने बर्खास्त सफाईकर्मियों को नौकरी पर वापस नहीं लिया तो हमें उग्र आंदोलन करना पडेगा. इस दौरान मंगला गवरे, नितिन तिवारी, भूपेंद्र कठाने, हितेश यादव, गुड्डू रहांगडाले, मुन्ना तिवारी, अक्षय मेश्राम, अतीक अंसारी, अब्बास अली, आशीष हाड़गे, शशिधर तिवारी,  ललित बावनकर आदि की उपस्थिति रही.