40 days water storage in Nashik dams, water supply will be closed for one day in a week

    नाशिक. नाशिक शहर (Nashik City) को पानी की आपूर्ति करने वाले गंगापुर बांध (Gangapur Dam) के जलग्रहण क्षेत्र में मानसून की बारिश (Monsoon Rains) ने दस्तक दे दी है। फिलहाल गंगापुर बांध समूह में नाशिक शहर के लिए केवल 40 दिनों के लिए पर्याप्त पानी बचा है। आने वाले सप्ताह में बारिश नहीं होने पर प्रशासन ने हर बुधवार को पानी कटौती (Water Cut)करने का फैसला किया है।  मेयर सतीश कुलकर्णी ने बताया कि मेयर कार्यालय में हुई अधिकारियों और पदाधिकारियों की बैठक में यह निर्णय लिया गया है।  ऐसे में पुराने नाशिक इलाके में गंदे पानी का मुद्दा भी सामने आया है और शिवसेना (Shiv Sena) ने आंदोलन शुरू कर दिया है। 

    नासिकवासियों पर पानी कटौती का संकट 

    जुलाई महीने के 15 दिन निकल जाने के बाद भी भारी बारिश ना होने के कारण नाशिक शहर में पानी आपूर्ती में कटौती करना महानगरपालिका प्रशासन की मजबूरी है, एैसा महानगरपालिका मेयर का मानना है। नाशिक को पानी की आपूर्ति करने वाले गंगापुर बांध में पिछले साल की तुलना में कम पानी है। जल आपूर्ती विभाग ने नाशिक महानगरपालिका को भी पानी कम करने के लिए पत्र लिखा है।  जल संसाधन विभाग की ओर से दिए गए एक और पत्र में नाशिक महानगरपालिका ने बुधवार को पानी कम करने का निर्णय लिया है। 

    जल आपूर्ती विभाग का महानगरपालिका को पत्र 

    गंगापुर बांध में पिछले साल की तुलना में पानी का भंडार कम होने के कारण जल संसाधन विभाग ने महानगरपालिका को पानी कम करने के लिए पत्र लिखा था।  पानी का संयम से उपयोग करने के अलावा, अतिरिक्त पानी का उपयोग करने पर जुर्माना लगाने की चेतावनी भी दी गई है।  पालक मंत्री छगन भुजबल इससे पहले भी महानगरपालिका के अधिकारियों को पानी काटने के लिए समय पर निर्णय लेने का आदेश दे चुके हैं। 

    किसानों द्वारा बोवाई शुरू 

    मौसम विभाग ने कल से नाशिक जिले में भारी बारिश का अनुमान जताया है।  पिछले साल की तुलना में नाशिक में हुई बारिश ने इस साल अच्छी बढ़त दी है।  रविवार से हलकी हलकी बारिश शुरु होते ही किसानों ने खेती के कामों में तेजी लाते हुए फसलों की बोवाई शुरु कर दी है।

    गंदे पानी के कारण सेना आक्रमक 

    पुराने नाशिक क्षेत्र में गंदे पानी की समस्या सामने आई है।  कई घरों में गंदा पानी आने से नागरिकों का स्वास्थ्य खतरे में है।  इसके खिलाफ शिवसेना की ओर से आंदोलन किया गया था।  महानगरपालिका क्षेत्र के पुराना नाशिक इलाके में शिवसैनिकों ने गंदे पानी की बोतल पर फडणवीस के फोटो के स्टिकर चिपका दिए और बोतल ले कर अधिकारियों से मिलने गए और गंदे पानी की वह बोतले अधिकारियों के सामने रखकर गंदी पानी की आपूर्ती को लेकर सवाल खड़े किए, जिसपर महानगरपालिका प्रशासन की ओर से किसी भी प्रकार का संतुष्टीपूर्ण जवाब नहीं मिला है।