farmer
File Photo

  • कर्ज में दबे किसानों में दहशत

नाशिक. दिंडोरी तहसील के कुछ किसानों को बैंकों के माध्यम से लगातार कृषि जमीन की नीलामी करने की धमकियां मिल रही हैं. इससे किसानों में दहशत का माहौल निर्माण हुआ है. किसान सख्ती से होने वाली वसूली को रोकने की मांग कर रहे हैं. किसान बेमौसमी बारिश और फसलों की बर्बादी का सामना कर रहे हैं. फसल को समर्थन मूल्य घोषित नहीं हो रहा है. इसके बावजूद बैंक प्रशासन किसानों को धमकाने का प्रयास कर रहा है.

किसान, सरकार के पास कृषि संबंधी नीति बनाने की मांग कर रहे हैं. किसानों के अनुसार फसल का मूल्यांकन न होने के कारण उन्हें नुकसान उठाना पड़ रहा है. दिंडोरी तहसील के किसान सबसे अधिक कर्ज में दबे हुए हैं. क्योंकि अंगूर की फसल में उन्हें सबसे अधिक नुकसान उठाना पड़ा है. इससे उन्हें बैंक के किश्त चुकाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. तकरीबन 50 प्रतिशत अंगूर उत्पादक किसानों को नुकसान उठाना पड़ा है, इसे लेकर तहसील के लोकप्रतिनिधियों से लोकसभा व विधानसभा में आवाज बुलंद करने की मांग किसान कर रहे हैं. 

बैंकों ने सहयोग करना चाहिए

राज्य में विगत 10 वर्षों से प्राकृतिक आपदा निर्माण हो रही है. इससे किसान आर्थिक संकट में फंस गये हैं. सरकार ने पूर्ण रूप से कर्ज माफी की तत्काल घोषणा करना जरूरी है. तब तक बैंकों ने किसानों को सहयोग देना चाहिए.

-रोहिणी गावित, जि.प. सदस्या, अहिवंतवाडी गट