केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन को मिला अच्छा प्रतिसाद

मालेगांव. केंद्र सरकार की बदली नीति से कर्मचारी और किसानों का अस्तित्व उध्वस्त होने की कगार पर पहुंच गया है. निजीकरण, ठेकेदारी, बेरोजगारी आदि नीति के खिलाफ और संभाव्य शोषण का मुकाबला करने के लिए में विविध संगठनों ने हड़ताल शुरू की है.

इस देशव्यापी हड़ताल में ऊर्जा उद्योग का निजीकरण, किसान, असंगठित कामगार, कर्मचारी, आशा वर्कर्स, नाशिक जिला अंगणवाड़ी कर्मचारी, महिला शिकायत निपटारा, आयटक, यांत्रिक कामगार आदि संगठन की ओर से केंद्र सरकार की नीति के खिलाफ मालेगाव स्थित मोती भवन के सामने हड़ताल शुरू करते हुए ठिया आंदोलन शुरू कर दिया है. इस समय बिजली वर्कर्स फेडरेशन के राज्य संयुक्त सचिव कॉ. जी. एच. वाघ, झोनल अध्यक्ष ललीत वाघ सहित विविध संगठन के पदाधिकारी, आशा वर्कर्स, कामगार बड़ी संख्या में उपस्थित थे.