Water crisis in Igatpuri due to prosperity contractor's arbitrary, illegally taking water from dam

    इगतपुरी. समृद्धि महामार्ग (Samruddhi Highway) का कार्य करने वाली ॲपकॉम्प कंपनी की मनमानी कार्यप्रणाली सामने आई है। इगतपुरी तहसील (Igatpuri Tehsil) के नांदगांव  सदो के ग्राम पंचायत (Gram Panchayat) परिसर के सिछाई  बांध से विगत तीन वर्षो से अवैध रूप से दो मोटर के सहयोग से यह कंपनी पानी उठा रही है। 

    ग्राम पंचायत सदस्य भालचंद्र भागडे ने इस संदर्भ में पूछताछ की तो कंपनी ने बताया कि ग्राम पंचायत से मंजूरी ली गयी है, लेकिन प्रत्यक्ष पटवारी, सरपंच ने इसके लिए किसी भी प्रकार की मंजूरी न देने की जानकारी दी। इसके बावजूद कंपनी ग्राम पंचायत पदाधिकारियों को धमका रही है कि उन्हें ऊपर से मंजूरी मिली है इसलिए वह नियमित रूप से यहां से पानी उठाते रहेंगे।

    इस बांध से बुझती है पशुओं की प्यास

    इस बांध से नांदगांव सदो, गुलगव्हण गांव के किसानों की खेती होती है। गांव के पशुओं की प्यास बुझती है। गांव के एक व्यक्ति ने ग्राम पंचायत की मंजूरी से तालाब में मत्स्य कारोबार के लिए चार से 5 लाख रुपए की मंछलियां छोड़ी थी, जो पूरी तरह से मर गई हैं। युवक का लाखों रुपए का नुकसान हुआ है।

    बांध में मात्र 1 माह का पानी शेष

    अब बांध में केवल एक माह का पानी शेष है। इसके बावजूद कंपनी सुनने को तैयार नहीं है। इस  दरमियान स्थानीय  शिवशक्ति मित्र मंडल, मनसे और बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने बांध  पर पहुंचकर पानी चोरी करने के लिए बिठाई गई दो मोटर पानी से बाहर निकाली। कंपनी फिर से मनमानी कर रही है इसलिए संपूर्ण गांव कंपनी के खिलाफ आंदोलन करने के संकेत दिए। इस दौरान मनसे तहसील अध्यक्ष मुलचंद भगत, ग्रामपंचायत सदस्य भालचंद्र भागडे, भाजपा तहसील अध्यक्ष मयूर माली, ज्ञानेश्वर भागडे, रमेश भागडे, शत्रुघ्न  भागडे, भास्कर भागडे, भरत भागडे, बाबाजी भागडे, रवि  भागडे, मनोज आडोले, रघुनाथ आडोले, श्याम भागडे, माणिक भागडे, गणेश मैले, देविदास राक्षे, राम भगत आदि उपस्थित थे।