राजस्थान कांग्रेस में सब ठीक नहीं, पायलट के वापसी से कई विधायक नाराज़

जयपुर: राजस्थान कांग्रेस में पिछले एक महीने से शुरू संग्राम कल समाप्त हो गया। कांग्रेस नेता राहुल गाँधी और महासचिव प्रियंका गाँधी से मुलाकात के बाद सचिन पायलट अपने समर्थक विधायकों के साथ दुबारा कांग्रेस में लौट आए है. जिसके बाद गहलोत सरकार पर आया संकट हट गया. लेकिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों के पार्टी में लौटने से गहलोत समर्थक विधायक नाराज होगए हैं.

मंगलवार को जैसलमेर के सूरजगढ़ होटल में विधायकों से साथ हुई बैठक हुई. जिसमे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे और पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला उपस्थित थे. इस दौरान विधायकों ने अपनी नाराज़गी मुख्यमंत्री के सामने दिखाई. जिसपर गहलोत ने कहा, ” यह निर्णय पार्टी आलाकमान का है, जिसे मानते हुए उसपर भरोसा करना चाहिए.”

आलाकमान का फैसला उचित और सर्वमान्य
विधायकों को इस स्थिति में साथ देने के लिए धन्यवाद देते हुए मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा, ” हमारे विधायक ने जिस तरह से हमारा साथ दिया यह किसी भी पार्टी के लिए अपने आप में एक इतिहास है. यहां मौजूद विधायक लोकतंत्र  इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह के बयानों की परवाह नहीं करनी चाहिए हमें आलाकमान पर पूरा भरोसा है. आलाकमान ने जो भी फैसला किया है वह उचित और सर्वमान्य है.”

सभी की सुनिजाएगी बात
मुख्यमंत्री ने विधायकों को बिस्वास में लेते हुए कहा, ” संकट की घड़ी में जिस भी विधायक ने  पार्टी के प्रति निष्ठा रखी है उस विधायक के किसी भी हित के साथ समझौता नहीं होगा। इन विधायकों की हर बात सुनी जाएगी.” उन्होंने कहा, ” हम सभी को साथ और विश्वास में लेकर काम करेंगे।”