पीडीपी के वरिष्ठ नेता सुरिंदर चौधरी ने पार्टी छोड़ी, नेतृत्व को ठहराया जिम्मेदार

    जम्मू: पीडीपी (PDP) को बड़ा झटका देते हुए वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विधान पार्षद सुरिंदर चौधरी (Surendra Choudhary) ने मंगलवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा कि पार्टी पर ‘‘ड्राइंग रूम राजनीतिज्ञों, भूमि हड़पने वाले और भू माफिया” सदस्यों ने कब्जा कर लिया है। चौधरी ने कहा कि वह पीडीपी को इसलिए छोड़ रहे हैं क्योंकि पार्टी को हाइजैक कर लिया गया है, न कि किसी सरकारी एजेंसी के दबाव में।

    उन्होंने दावा किया कि पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ऐसे ‘कुछ नेताओं’ के प्रभाव में हैं,वह सही एवं गलत में अंतर नहीं कर पा रही हैं और पार्टी अपने मुख्य एजेंडे ‘शांति एवं सम्मान’ से भटक गई है जिसकी परिकल्पना पीडीपी संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद ने की थी। 

    कई समर्थकों के साथ मौजूद चौधरी ने कहा, ‘‘हम पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रहे हैं।”उन्होंने कई समर्थकों का परिचय नौशेरा एवं सुंदरबनी में पीडीपी के पदाधिकारियों के तौर पर कराया।  चौधरी के साथ मौजूद समर्थकों ने उनकी घोषणा का समर्थन किया। 

    पूर्व विधान पार्षद ने पत्रकारों से कहा, ‘‘ मैं पीडीपी महबूबा या (केंद्र) सरकार या उसकी एजेंसियों के दबाव की वजह से नहीं छोड़ रहा हूं। हम यह कदम उठाने पर मजबूर हुए हैं क्योंकि पीडीपी को कुछ ड्राइंग रूम राजनीति करने वाले नेताओं, भूमि कब्जाने वाले और भू माफिया ने हाइजैक कर लिया है जो उनके (महबूबा) आसपास जमे हुए हैं।”

     भविष्य की योजना पर चौधरी ने कहा कि वह अपने गृह नगर नौशेरा में समर्थकों के साथ बैठक कर फैसला करेंगे कि किसी दूसरी पार्टी में शामिल होना या है निर्दलीय रहना है।