Gadkari opened a front against Munde, requested the smart city related ministries to investigate
File Photo

पणजी. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस की महामारी की वजह से उत्पन्न अप्रत्याशित स्थिति को संकट के समय एक अवसर के रूप में देख जाना चाहिए। जन संवाद के नाम से आयोजित डिजिटल रैली को महाराष्ट्र के नागपुर से भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि कोविड-19 की उत्पन्न चुनौतियां भारत के सामने आजादी से पहले और बाद में आई चुनौती की तुलना में कुछ भी नहीं हैं जिन पर देश ने पार पाया था।

गडकरी ने कहा, ‘‘ केवल भारत ही नहीं है जो कोविड-19 का सामना कर रहा है बल्कि पूरी दुनिया पर इस प्रभाव पड़ा है किंतु इसे संकट के समय एक अवसर के तौर पर लिया जाना चाहिए।” उन्होंने कहा कि लोगों को भय से ऊपर उठना चाहिए और परिस्थितयों की वजह से निराश नहीं होना चाहिए। गडकरी ने कहा, ‘‘ हमने आजादी से पहले और बाद कई चुनौतियों का सामना किया और उनपर विजय प्राप्त की। उनकी तुलना में यह (कोविड-19) चुनौती बड़ी नहीं है। हमें आशावादी होना चाहिए और अपना भरोसा डिगने नहीं देना चाहिए। नकारात्मकता का कोई स्थान नहीं होना चाहिए।”

केंद्रीय मंत्री भरोसा जताया कि भारत आर्थिक मुश्किलों पर पार पा लेगा और महाशक्ति बनकर उभरेगा। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया के वैज्ञानिक कोरोना वायरस के टीके को विकसित करने का प्रयास कर रहे हैं और जल्द सफल होंगे। गडकरी ने कहा, ‘‘ हम सामाजिक दूरी का अनुपालन कर, मास्क पहन और हाथों को संक्रमण मुक्त करके कोविड-19 के खिलाफ लड़ना चाहिए।” गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सांवत और गोवा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सदानंद शेत तानावडे ने भी पणजी स्थित पार्टी कार्यालय से डिजिटल रैली को संबोधित किया। (एजेंसी)