Temple culture more important than hospital culture: Dilip Ghosh

    कोलकाता: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election) में जैसे-जैसे मतदान के दिन पास आ रहे हैं। वैसे ही नेताओं की भाषा का स्तर लगातार गिरता जा रहा है। इसी क्रम में बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने टीएमसी प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को लेकर विवादित बयान दे दिया है। बुधवार को एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए घोष ने कहा, “ममता के पैरो से प्लास्टर कट चूका है और पट्टी बंधी हुई है। वह चुनावी सभा में एक पैर को साड़ी से छुपाया है, दूसरा सामने कर के दिखती है। जब दिखाना ही है तो साड़ी की जगह बरमूडा पहन लें, जिससे दोनों पैर अच्छे से दिखेंगे।”

    घोष के इस बयान पर तृणमूल कांग्रेस पलटवार किया है। सांसद महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) ने ट्वीट करते हुए कहा, “बंगाल भाजपा अध्यक्ष ने सार्वजनिक सभा में पूछा कि ममतादी ने साड़ी क्यों पहनी है, उन्हें अपने पैर बेहतर दिखाने के लिए “बरमूडा” शॉर्ट्स पहनने चाहिए।” उन्होंने कहा, ” और इन विकृत उत्कीर्ण बंदरों को लगता है कि वे बंगाल जीतने जा रहे हैं?”

    ज्ञात हो कि, नंदीग्राम में प्रचार के दौरान ममता बनर्जी के पैरों में चोट लग गई थी। टीएमसी सहित ममता ने इसे खुद पर हमला बताया था। और भाजपा को जिम्मेदार बताया था। वहीं दूसरी ओर विपक्षी दल इसे वोट और सीम्पति पाने के लिए यह नाटक बताया है। जिस दिन से ममता अस्पताल से निकली है उसके दूसरे दिन से वह विल चेयर पर ही सभाओं को संबोधित कर रही हैं। 

    ममता जी की रिपोर्ट सार्वजनिक हो 

    ममता की रिपोर्ट को लेकर राज्य में लगातार राजनीति हो रही है। कांग्रेस समेत तमाम दल उनकी रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग कर रहे हैं। बीते मंगलवार को बंगाल में आयोजित चुनावी रैली को गृहमंत्री अमित शाह ने एक मीडिया से बात करते हुए ममता की रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग की थी।