Droplets from mouth, nose in winter will increase the risk of corona infection: Scientist
File Photo

पुणे. सबअर्बन डायग्नोस्टिक्स ने पिछले 6 महीनों में पुणे और मुंबई में 3 लाख कोविड-19 टेस्ट किए हैं. 24 मार्च, 2020 से भारत में कोविड-19 परीक्षण करने के लिए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसएमआर) द्वारा अधिकृत होने वाली पहली निजी प्रयोगशालाओं में से एक सबअर्बन डायग्नोस्टिक्स थी. सबअर्बन डायग्नोस्टिक्स ने इस कोविड-19 के समय में बड़े बदलाव देखे हैं. सबअर्बन डायग्नोस्टिक्स ने कोविड और गैर-कोविड परीक्षणों के लिए समर्पित और विशिष्ट केंद्रों, ड्राइव थ्रू केंद्रों, मल्टिपल मॉलिक्यूलर बाइओ लैब की स्थापना की और देश के कोरोना युद्ध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए सबर्बन डायग्नोस्टिक को अपने बुनियादी ढांचे, प्रौद्योगिकी और संचालन को अपग्रेड करना पड़ा.

सबर्बन डायग्नोस्टिक्स अपने सेन्टर में संपर्क रहित अनुभव सुनिश्चित करने के लिए एक परीक्षण एल्गोरिथ्म के साथ ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा प्रदान करती है. इस तरह की सुविधाएं देने वाली सबर्बन डायग्नोस्टिक्स यह एकमात्र लैब है. सुशांत किनरा, सीओओ, सबर्बन डायग्नोस्टिक्स ने  कहा कि हमें एहसास हुआ कि कोविड-19 के खिलाफ देश की लड़ाई में हमारी भूमिका बेहद महत्वपूर्ण है. यही कारण है कि हम फ्रंट फुट पर कार्य करने के लिए तैयार हो गया. हमारे पास उपलब्ध संसाधनों, अधिकतम बुनियादी ढांचे और एसओपी के निर्माण में अधिकतम समायोजन जैसी चुनौतियां थीं. पर हमारा पहला कदम टर्नअराउंड समय को कम करके संकट से लड़ना था. साथ ही हम अपनी क्षमता को बढ़ाने के लिए आवश्यक परिवर्धन करना जारी रख रहे हैं. क्योंकि हमारी सेवाओं की मांग बढ़ती ही जा रही है.